अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा-पेशेंट पूलिंग कर संसाधनों का बेहतर उपयोग हो


शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। कोरोना वायरस के संबंध में अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी एवं प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने मंगलवार को संयुक्त रूप से यहां लोकभवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया है कि जिन जिलों में कोरोना पॉजिटिव केसों की संख्या कम है, ऐसे में पेशेंट पूलिंग कर संसाधनों का बेहतर उपयोग किया जाए। सीएम योगी ने निर्देश दिया है कि जिन 6 मंडल मुख्यालयों पर मेडिकल कॉलेज नहीं हैं, वहां टेस्टिंग लैब की स्थापना की प्रक्रिया शुरू की जाए। सीएम योगी ने कहा है कि लॉकडाउन की कार्रवाई सभी के सुरक्षित भविष्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसलिए सभी को सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर सहयोग करना चाहिए। 
अपर मुख्य सचिव ने बताया कि सीएम योगी के निर्देश पर पेशेंट पूलिंग का काम शुरू होने जा रहा है। उन्होंने बताया कि कई जिलों में एक से दो ही कोरोना पॉजिटीव पेशेंट का इलाज किया जा रहा है। ऐसे में यह देखने में आया है कि एक दो मरीजों के लिए पूरा मेडिकल सिस्टम प्रभावित होता है। इसी कारण मंडल कमिश्नर को यह आदेश दिया गया है कि जिन जिलों में एक से दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज हो रहा हो तो उन्हें किसी एक ही बेहतर संसाधन वाले अस्पताल में शिफ्ट करा दिया जाए। जिससे मेडिकल सिस्टम का बेहतर उपयोग किया जा सके।




अवनीश अवस्थी ने बताया कि सीएम योगी के निर्देश पर देवीपाटन मंडल (गोंडा), मिर्जापुर, बरेली, मुरादाबाद, अलीगढ़ और वाराणसी में बीएचयू के अतिरिक्त अस्पताल में टेस्टिंग लैब स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है। उन्होंने बताया कि अबतक प्रदेश में 10 टेस्टिंग लैबों में काम शुरू करा दिया गया है। इसके अलावा हर जिले में कलेक्शन सेंटर भी स्थापित करने का निर्देश दिया है। उन्होंने बताया कि 1257 तबलीगी जमात के लोगों को क्वारंटीन करा दिया गया है। जिसमें से 323 विदेशी हैं, इनमें 259 के पासपोर्ट जब्त कर लिए गए हैं। उन्होंने बताया कि 2 करोड़ 86 लाख से ज्यादा राशन कार्ड पर खाद्यान्न का वितरण किया गया है। उन्होंने बताया कि विदेशी जमातियों के पासपोर्ट जब्त किये गए हैं। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि प्रदेश में अब तक 6073 सैम्पल लिए गये हैं, जिनमें 5 हजार से अधिक नेगेटिव पाये गये हैं। प्रदेश में अबतक 314 लोग संक्रमित मिले है, जिनमें से 22 ठीक हो चुके हैं।
स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि प्रदेश में अबतक 314 केस सामने आए हैं, जिसके कारण 37 जिले प्रभावित हैं। 314 में से 22 पेशेंट का उपचार कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि अबतक 6073 सैंपलों की जांच की गई है। जिनमें से 5595 की रिपोर्ट निगेटिव मिली है। 




प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि यह देखने में आ रहा है कि कई केसों में रिपोर्ट पॉजिटीव मिल रही है लेकिन पेशेंट में लक्षण नहीं दिखाई नहीं दे रहा है। ऐसे पेशेंट के ईलाज के लिए मुख्यमंत्री के निर्देश पर नई प्रक्रिया शुरू की जा रही है। जिसके अंतर्गत सभी जिला अस्पतालों के समीप ही किसी अन्य इमारत को लिया जाएगा। इसी इमारत में ऐसे पेशेंट का ईलाज होगा, जिससे मुख्य अस्पताल पर दवाब कम हो जाएगा। उन्होंने बताया कि वर्तमान में 75 प्रतिशत पेशेंट ऐसे ही हैं कि जिनमें लक्षण तो दिखाई नहीं दे रहा है लेकिन रिपोर्ट पॉजीटिव मिली है।  
प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि कोरोना मरीजों के उपचार के लिए वर्तमान में प्रदेश के अंदर 10 हजार बेड है, और नई प्रक्रिया के तहत जिला अस्पताल के समीप इमारतों को लेकर अतिरिक्त 10 हजार बेड की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। उन्होंने बताया कि 750 वेंटिलेंटर युक्त बेड हैं। हालांकि वर्तमान में कोई भी पेशेंट वेंटिलेटर पर नहीं है।
बता दें कि प्रदेश में अब तक 314 नए केस चिन्हित किये गये हैं। कोरोना से 37 जिले प्रभावित बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।