अनावश्यक रूप से जमा भीड़ को हटाने पर लोगों ने किया पुलिस टीम पर हमला, दरोगा व कांस्टेबल गम्भीर, आला अफसर मौके पर, स्थिति काबू में


अमजद रजा, ककरौली। लाॅकडाउन के दौरान ग्रामीणों की भीड़ को हटाने पर भीड़ ने पुलिस टीम पर पथराव कर दिया, जिसमें एक दरोगा व एक कॉन्स्टेबल बुरी तरह घायल हो गये। घायलों को जिला अस्पताल ले जाया गया है, जहाँ से गंभीर हालत में दरोगा को मेरठ रेफर किया गया है। सूचना मिलते ही एसएसपी अभिषेक यादव ने अस्पताल पहुंचकर जानकारी ली। उन्होंने दोषियों को चिन्हित करके उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने निर्देश दिए।



भोपा थाना क्षेत्र स्थित मोरना के निकटवती गांव करहेड़ा में उस समय स्थिति गम्भीर हो गयी, जब गांव में अनावश्यक रूप से जमा लोगों को मोरना चैकी प्रभारी लेखराज व पुलिस टीम ने हाटाने का प्रयास किया तो भीड़ ने पुलिस टीम पर ही पथराव कर दिया। इतना ही नहीं कुछ लोगों ने लाठी-डंडो तथा लोहे की रॉड आदि से पुलिस टीम पर जानलेवा हमला बोल दिया। भीड़ द्वारा किये गये अचानक हमले में उपनिरीक्षक लेखराज सिंह व कॉन्स्टेबल रवि कुमार बुरी तरह घायल हो गये। आनन-फानन घायलों को भोपा के सरकारी अस्पताल ले जाया गया, जहाँ से गम्भीर हालत में जिला चिकित्सालय रैफर कर दिया गया।



जिला अस्तपाल में गम्भीर हालत देखते हुए पुलिस उपनिरीक्षक लेखराज को मेरठ रैफर किया गया है। अभी उनकी हालत गम्भीर बनी हुई है। भीड़ द्वारा किये गये हमले की सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस बल के साथ पहुंचे पुलिस अधीक्षक देहात नेपाल सिंह, क्षेत्राधिकारी भोपा राममोहन शर्मा व भोपा थाना प्रभारी निरीक्षक संजीव कुमार बामुश्किल स्थिति पर काबू पाया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने मामले को गम्भीरत से लेते हुए दोषियों को चिन्हित करके उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार स्थिति पर पूरी तरह काबू पा लिया गया है और दोषियों की धरपकड़ के प्रयास तेज कर दिये गये हैं।