ठीक नहीं 

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

गाँव अच्छा है, शहर अच्छा है 

मेरा सारा देश अच्छा है 

गाँव-शहर का भेदभाव ठीक नहीं 

 

सब धर्म अच्छे हैं 

उनको मानने वाले अच्छे हैं 

नफ़रत की बू ठीक नहीं 

 

आमजन अभावों में भी खुश है 

वो कर रहा है अनवरत अपना कर्म 

पर नेताओं के इरादे ठीक नहीं 

 

सब देशभक्त हैं, परन्तु -

तुम मांगो न देशभक्ति का प्रमाण पत्र 

देशभक्ति के नाम पर घाव ठीक नहीं 

 

देशहित कटा देगा गर्दन यहाँ बच्चा-बच्चा

पर तुम हरे-भगवे का भेद मत सिखाओ 

भारतमाता का चीर हरण ठीक नहीं 

 

एकता हमारी सदियों पुरानी 

शांति में तुम्हारा दिया तनाव 

ए नेताजी ! देशहित में ठीक नहीं 

 


ग्राम रिहावली, डाक तारौली गूजर, 

फतेहाबाद, आगरा 283111