DM व CDO ने आईसीडीएस सहित समस्त कन्वर्जेन्स विभागों को कैलेण्डर के अनुसार गतिविधियों का आयोजन कराने के निर्देश


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी ने आईसीडीएस सहित समस्त कन्वर्जेन्स विभागों को पोषण पखवाड़ा के दिवसवार कैलेण्डर के अनुसार गतिविधियों का आयोजन कराने, सहयोग करने एवं भारत सरकार के डैश बोर्ड पर गतिविधियों की फीडिंग कराने के निर्देश दिये है। भारत सरकार द्वारा पोषण पखवाड़े के दौरान 06 मुख्य कार्य किये जाने की अपेक्षा की गयी है, जिसके तहत गतिविधियों का फोकस- आंगनवाडी कार्यकत्री द्वारा गृह भ्रमण, सामुदायिक गतिविधियां, आशा द्वारा महिला बैठक तथा ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवसों का आयोजन करना, वंचित परिवारों तक पहुंच बनाना- गांव की मैपिंग करना तथा सेवाओं से छूटे हुए लाभार्थियों को चिन्हित करते हुए उनकी सूची बनाना। पखवाड़े के दौरान इन परिवारों को प्राथमिकता के आधार पर भ्रमण करना। गृह भ्रमण को पखवाड़े का आधार बनाना 0 से 2 वर्ष के सभी बच्चों के घर पखवाड़े के दौरान शत-प्रतिशत भ्रमण करना। एक गांव में 02 वर्ष तक के 35-40 परिवार होंगे। शत-प्रतिशत कवरेज हेतु यह आवश्यक होगा कि प्रत्येक दिन आशा व आंगनवाडी कार्यकत्री कम से कम 2-3, 0-2 वर्ष तक के बच्चों के परिवारों का भ्रमण करें। परिवार के वरिष्ठ सदस्य जैसे कि पुरूष, बुर्जुग सदस्य, माॅ, सास, आदि को गृह भ्रमण के दौरान   अवश्य सम्पर्क करना। ऊपरी आहार, उसकी गुणवत्ता तथा विविधता पर सामुदायिक बैठकों तथा गृह भ्रमण के दौरान गहन फोकस। प्रत्येक गृह भ्रमण में ऊपरी आहार के बारे में जानकारी प्राप्त करने हेतु सुनो, समझो, सलाह देना को उपयोग में लाना और वास्तविक स्थिति के आधार पर परामर्श देना। आंगनवाडी तथा आशा कार्यकत्रियों को संदेश देना कि पखवाड़े का फोकस परामर्श होना चाहिए ना कि मात्र गतिविधियों के आयोजन पर।
भारत सरकार द्वारा विभागीय दायित्व निर्धारित करते हुए जिलाधिकारी के नेतृत्व में पोशण पखवाड़ा में कार्यक्रम में सफल क्रियान्वयन सुनिश्चित किये जाने के निर्देश प्रदान किये गये है।