आठ फ्लैट वाले अपार्टमेंट भी रेरा के दायरे में

शि.वा.ब्यूरो, नई दिल्ली। शहरों में गली-गली खड़े छोटे अपार्टमेंट भी रियल एस्टेट विनियामक प्राधिकरण (रेरा) की नजर में आ गए हैं। नियम-कानून को ताक पर रख कर बनने वाले ऐसे अपार्टमेंट्स पर रेरा ने अंकुश लगाने की शुरुआत की है। पहली बार 500 वर्गमीटर या मात्र आठ फ्लैट वाले अपार्टमेंट का पंजीकरण भी रेरा में अनिवार्य किया गया है। इससे कम आय वाले छोटे खरीदारों को ठगी से बचाया जा सकेगा। शहरों में गली-गली बने छोटे अपार्टमेंट कई लिहाज से खतरनाक हैं। इनके निर्माण की गुणवत्ता की कोई गारंटी नहीं है तो वहीं, इन्हें बेचने या अनुबंधों पर भी कोई जोर नहीं है। 

बता दें कि अवैध रूप से बनी इन इमारतों में बने फ्लैटों की खरीदारी ज्यादातर नकद में होती है। ऐसे फ्लैट खरीदने वाले ग्राहकों की सुनवाई भी कहीं नहीं होती। यूपी के 15 शहरों में ही ऐसी 20 हजार से ज्यादा इमारतें हैं। पहली बार छोटे अपार्टमेंट को भी रेरा में पंजीकृत कराया जा रहा है। ग्राहकों पर कोई मुसीबत न आए, इसके लिए शून्य देनदारी का शपथपत्र बिल्डर से लिया जा रहा है। कब्जा देने में विलंब करने वाले बिल्डरों के खिलाफ शिकायत की सुविधा दी गई है। उनके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जा रही है।

Comments
Popular posts
राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय धरेच में आयोजित दश दिवसीय संस्कृत संभाषण शिविर सम्पन्न
Image
एडीएम वित्त ने मारा छापा, तहसील के क्वार्टर में सरकारी कामकाज करते पकड़ दो बाहरी व्यक्ति
Image
लेखपालों के पास कुछ प्राइवेट हेल्परों को कार्य करते हुए रंगे हाथ पकड़ा
Image
जिलाधिकारी मनीष बंसल ने किया कलेक्ट्रेट परिसर का निरीक्षण
Image
राजस्व परिषद के अध्यक्ष डॉ0 रजनीश दुबे ने किया कलैक्ट्रेट के विभिन्न पटलों, कंट्रोल रूम का निरीक्षण, राजस्व कार्यों की समीक्षा बैठक भी की, बन्दोबस्त अधिकारी चकबन्दी के पेशकार को निलम्बित करने के निर्देश
Image