श्रीराम ग्रुप ऑफ कालिजेज के प्रबन्धन विभाग में विश्वस्तरीय कार्यशाला आयोजित

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। श्री राम ग्रुप ऑफ कॉलेजेस के प्रबंधन विभाग में इस वर्ष लीडर्स कनेक्ट सीरीज नामक अतिथि व्याख्यान तथा कार्यशाला श्रृंखला का आयोजन किया जा रहा है। इसी क्रम में तीसरी विश्वस्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। यह कार्यशाला मैन्युफैकचरिंग सेक्टर में क्वालिटी मैनेजमेंट तथा कॉरपोरेट एक्सीलेंस के अंतर्गत जापानी सिद्धांत टोटल प्रोडक्टिविटी मेंटनेंस तथा फाइव एस क्रियाविधि की आधारभूत जागरूकता पर आधारित थी।

इस कार्यक्रम के मुख्यवक्ता तथा प्रशिक्षक राहुल बालियान रहे। राहुल बालियान सी आई आई तथा जापान इंस्टीट्यूट ऑफ प्लांट मेंटनेंस द्वारा प्रशिक्षित तथा प्रमाणित हैं तथा वर्तमान में ओलम इंटरनेशनल नामक लागोस, नाइजीरिया स्थित कंपनी में कार्यरत हैं। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्वलित कर तथा डीन मैनेजमेंट डॉ सौरभ मित्तल द्वारा राहुल बालियान को बुके भेंट कर किया गया। इस अवसर पर श्रीराम ग्रुप ऑफ कालिजेज के चेयरमैन डॉ. एससी कुलश्रेष्ठ भी उपस्थित रहे। 
उन्होंने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि श्री राम ग्रुप ऑफ कॉलेजेस अपने छात्रों को गुणवत्तापरक शिक्षा प्रदान करने हेतु प्रतिबद्ध है। उनका सदैव यही प्रयास है कि मुजफफरनगर जैसे शहर में भी विश्वस्तरीय शिक्षा तथा प्रशिक्षण के अवसर प्रदान किए जाएं ताकि जब छात्र किसी संगठन में नौकरी पाने जाए तो उसे सभी प्रकार का तकनीकी तथा गैर तकनीकी ज्ञान एवं कौशल पहले से हो। उन्होंने प्रबंधन विभाग के नवीन प्रयासों तथा एम बी ए कार्यक्रम के अन्तर्गत इस प्रकार के प्रशिक्षणों तथा नवाचार के समावेश पर विभाग के प्रयासों की प्रशंसा की। कार्यशाला के अंतर्गत प्रशिक्षक राहुल बालियान ने टी पी एम सिद्धांतो तथा फाइव एस क्रियाविधि के अनुपालन, तकनीकों तथा लाभ आदि के विषय में विस्तार से समझाया।
इस अवसर पर प्रबंधन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ अशफाक अली ने कहा कि एम बी ए कार्यक्रम के अन्तर्गत इस प्रकार की कार्यशाला तथा प्रशिक्षणों को आयोजन करने का प्रायोजन यह है कि एम बी ए के छात्रों को इंडस्ट्री की मांग के अनुरूप तैयार किया जा सके। तथा भविष्य में भी इस प्रकार के प्रशिक्षणों का आयोजन किया जाता रहेगा। कार्यक्रम के अन्तर्गत एम बी ए विभाग के सौ से अधिक छात्रों ने प्रतिभाग किया। कार्यक्रम के समन्वयक अतुल रघुवंशी रहे। कार्यक्रम में श्रुति मित्तल, राजीव रावल तथा मोहम्मद दानिश आदि का सहयोग रहा।