कमिश्नर डा. लोकेश एम ने किया चार औद्योगिक इकाइयों में ईटीपी प्लांट का निरीक्षण

गौरव सिंघल, सहारनपुर कमिश्नर डा. लोकेश एम ने हिंडन नदी के पानी को प्रदूषित करने वाली औद्योगिक इकाइयों को सील किए जाने के निर्देश दिए हैं। क्षेत्रीय अधिकारी उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण डा. दिनेश चंद्र पांडे ने आज बताया कि कमिश्नर डा. लोकेश एमएडिशनल कमिश्नर देवेंद्र प्रताप सिंह और प्रदूषण विभाग के अधिकारियों ने चार औद्योगिक इकाइयों में ईटीपी प्लांट का निरीक्षण किया। निरीक्षण में मैसर्स गर्ग डाइंग और मैसर्स सुपर टेक्सटाइल्स में ईटीपी प्लांट काम करते नहीं मिले। निरीक्षण में इन दोनों इकाइयों का प्रदूषित पानी हिंडन नदी में गिरता हुआ पाया गया। इस पर कमिश्नर डा. लोकेश एम ने नाराजगी जताई और प्रदूषण विभाग के अधिकारियों को इन दोनों इकाइयों को सील करने के निर्देश दिए। क्षेत्रीय अधिकारी प्रदूषण नियंत्रण डा. दिनेश चंद्र पांडे ने कमिश्नर के निर्देश के अनुपालन में इन दोनों इकाइयों के खिलाफ कार्रवाई के लिए शासन को पत्र भेज दिया है। एडिशनल कमिश्नर डीपी सिंह ने बताया कि निरीक्षण के दौरान गणपति टेक्सटाइल्स में उत्पादन बंद पाया गया। एक अन्य इकाई में ईटीपी प्लांट की मरम्मत करना पाया गया। कमिश्नर डा. लोकेश एम ने प्रदूषण विभाग को निर्देश दिए कि किसी भी औद्योगिक इकाई का प्रदूषित पानी हिंडन नदी में नहीं गिरना चाहिए और सभी औद्योगिक इकाइयों के ईटीपी प्लांट पूरी तरह से कार्यरत्त होने चाहिए। कमिश्नर ने एक पखवाड़े के बाद फिर से निरीक्षण करने की बात कही। ध्यान रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रशासन को हिंडन नदी को स्वच्छ और अविरल बनाने के निर्देश दिए हैं। उसी के अनुपालन में कमिश्नर निरीक्षण और कार्रवाई कर रहे हैं।