बेटी दुर्गा वैष्णवी

डॉ. दशरथ मसानिया,  शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

बेटी कोयल बोल हैबेटी नाचे मोर।
बेटी तितली सी उड़े,बेटी मचाय शोर।।1
बेटी फूल गुलाब हैबेटी कलियन जान।
बेटी देशोत्थान है, कहत हैं कवि मसान।।2
बेटी कुल की सेतु है, दोऊ कुल की खान।
 मात पितु सेवा करें, कहता जगत बखान।।3
बेटी हिमगिरि श्रृंग है,बेटी कृप की धार।
उपकारी जीवन जिये, बेटी गौ अवतार।।4
बेटी दुर्गा  वैष्णवी ,देवी का अवतार।
बेटी में काली बसे, लगे कलम की धार।।5
बेटी निंदा ना करो, बेटी बेट समान।
बेटी रूप हि खान है, सांची कहत मसान।।6
बेटी गंगा नर्मदा बेटी,बेटी जमना धार ।
बेटी घर की शान है,बेटी से सरकार।।7
बेटी लाडो गोमती,बेटी मोती हार।
बेटी ऋषिअवतार है,करती बेड़ा पार।।8
बेटी रोती देख के, बगिया भी रो देय।
बेटी आंसू करुण रस, सब का दिल हर लेय।।9
बेटी सातहि द्वीप हैं, करें सदा परकाश।
भूमंडल की शान है, होवे नहीं हताश।10
सात राज्य हैं बेटियां,हिमगिर की है शान।
नागा आसम त्रिपुरा,अरुणा मणिपुर जान।।11
सात ऋषि हैं बेटियां, वंश चलायो आन।
सात पुरी भी बेटियां,कांची काशी मान।।12
बेटी सागर सी रहत,करती पर कल्याण।
परहित के हि कारणे, बेटी बनी महान।।13
बेटी चंदा चांदनी,जगत करे उजियार।
बेटी सूरज की किरण,जीवन को आधार।।14
बेटी तीनों देव हैं, ब्रह्मा विष्णु महेश।
बेटी धरती की धुरी, धारे रूपहि शेष।।15
बेटी नदियां सी बहत, नित नव बहती धार।
सुर सरिता सी रहत है,चंचल प्रेम अपार।।16
बेटी गीता रामयण, बेटी वेद पुराण।
बेटी बाईबिल बसे, बेटी बसे कुरान।।17
बेटी पेड़ की डार है,वायू से झुक जाय।
बेटी चंदन रूप है, खुशबू दे बिखराय।।18
बेटी बाग अरु बरगद,परहित करती काम।
बेटी रोम-रोम बसे ,देवी चारों धाम।।19
बेटी नदी अवतार है, बह पानी की धार।
बेटी करती है सदा, दोनों कुल को पार।।20
बेटी तीनों काल हैं भूत भविष्य को ज्ञान।
वर्तमान से कीजिए बेटी की पहिचान।।21
बेटी नहि तो कल नहीं, बेटी है तो आज।
 बेटी के बिन देश में, नहीं चलेगो राज।।22
बेटी फूल पराग है ,बेटी रस की खान।
 बेटी शक्ति अधार है, बाको तू पहिचान।।24
बेटी हंसती फूल है ,बेटी पल्लव जान।
 बेटी की मुस्कान से, भगते दुख के गान।।25
एक गाड़ी चक्का द्वै, दोई रहत समान।
बेटी भेद न कीजिए,राखो बाको मान।।26
बेटी साहित जानिए ,बेटी है संगीत। 
ईर्ष्यालु संसार में, बेटी करती प्रीत।।27
माया मथुरा काशी कु बेटी में ही मान।
पुरी अवंती में बसी, हरसिद्धि महारानि।।28
23, गवलीपुरा आगर, (मालवा) मध्यप्रदेश