मतदाताओं की इच्छा पर निर्भर है आधार नम्बर एकत्रीकरण कार्यक्रम


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार दिनांक 01 अगस्त, 2022 से मतदाता सूची को शुद्ध बनाने के लिये बूथ लेविल अधिकारियों द्वारा घर-घर जाकर मतदाताओं से स्वैच्छिक रूप से आधार नम्बर एकत्र किये जाने का कार्य चल रहा है। उक्त कार्य हेतु  फार्म-6बी का प्रयोग किया जायेगा, यदि मतदाता के पास आधार नम्बर नहीं है तो फार्म-6बी में दर्शाये गये 11 विकल्पों में से किसी एक विकल्प की प्रति फार्म-6बी के साथ संलग्न कर उपलब्ध करा सकता है।  आधार नम्बर एकत्रीकरण कार्यक्रम पूर्णतः मतदाताओं की इच्छा पर निर्भर है। किसी भी मतदाता के पास आधार नम्बर न होने की दशा में उस मतदाता का नाम निर्वाचक नामावली से अपमार्जित नहीं किया जायेगा और मतदाताओं से प्राप्त आधार नम्बर को किसी भी दशा में सार्वजनिक नहीं किया जायगा।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि आधार नम्बर को दो प्रकार से अपडेशन किया जा सकता है। 1. आनलाइन प्रोसेस- मतदाता  NVSP portal/App  पर आधार नम्बर से लिंक किये गये मोबाइल नं0 जिस पर ओटीपी प्राप्त होगा जिसकी सहायता से self authentication  से आधार नम्बर अपडेट कर सकते हैं। यदि self authentication फेल हो जाता हैं तो बिना ओटीपी के प्रोसेस के आनलाईन फार्म 6बी आवश्यक अभिलेख के साथ उक्त प्रोर्टल पर भर सकते हैं।

2. आफ लाईन प्रोसेस- इस प्रक्रिया में बीएलओ द्वारा घर घर जाकर मतदाताओं से स्वैच्छिक रूप से फार्म-6 बी आवश्यक अभिलेखों के साथ प्राप्त किया जा रहा है। इस कार्य हेतु मुख्य निर्वाचन अधिकारी उत्तर प्रदेश लखनऊ द्वारा 04 सितम्बर, 2022 (रविवार) एवं 25 सितम्बर, 2022 (रविवार) को जनपद के सभी मतदेय स्थलों पर विशेष कैम्प का आयोजन किया गया है। उक्त विशेष कैम्प में सभी बूथ लेविल अधिकारी अपने बूथों पर उपस्थित रह कर मतदाताओं से फार्म-6बी प्राप्त करेंगे।