जनपद में विशेष संवेदीकरण एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान 7 सितंबर से
शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। तहसील सदर सभागार में मीडिया को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह ने बताया कि जनपद में 7 सितंबर से 16 सितंबर के मध्य विशेष संवेदीकरण एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस अभियान में विशेष रुप से स्वच्छता अभियान भी चलाया जाएगा, जिसके लिए जिला पंचायत राज अधिकारी, समस्त एसडीएम, खंड विकास अधिकारी व अधिशासी अभियंता नगर पंचायतों एवं अन्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि वह सभी जगह सफाई व्यवस्था को दुरुस्त बनाए रखें कही भी पानी इकट्ठा ना होने दें एवं जहां भी घास और झाड़ियों अनावश्यक रूप से उगी उन्हें कटवा दें। मुख्य विकास अधिकारी आलोक कुमार यादव ने बताया कि विशेष संवेदीकरण एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान के अंतर्गत आशाएं घर घर जाकर बुखार एवं कोविड का सर्वे करेंगे, इसके साथ ही ऐसे लोगों को भी चिन्हित किया जाएगा जिनकी आयु 45 वर्ष से अधिक है और जिन्होंने अभी तक अपना कोविड टीकाकरण नही कराया है साथ ही आशाएं नियमित टीकाकरण से छूटे हुए बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं की भी सूची तैयार करेंगी।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ0 महावीर सिंह फौजदार ने बताया कि आशाएं घर घर जाकर नागरिकों को डेंगू, मलेरिया आदि वेक्टर जनित रोगो के लक्षणों एवं बचाव के विषय में लोगों को घर-घर जाकर जागरूक करेंगे साथ ही मच्छरों से बचाव के लिए क्या करें यह जानकारी भी देंगी। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि जनपद में अभी तक कोई भी डेंगू बुखार से ग्रसित रोगी नही मिला है उन्होंने सभी जनपद वासियों से अपील करते हुए कहा कि बरसात के इस मौसम में घर के बर्तनों, कूलर, पानी की टंकी, फ्रिज की पीछे की ट्रे, घरों के आसपास पड़े टायर, टूटे लोहे व प्लास्टिक के पात्रो में पानी ना इकट्ठा होने दें क्योंकि मच्छर इन्ही में पनपते हैं सप्ताह में एक बार इन्हें साफ करके अवश्य करें क्योंकि डेंगू का मच्छर दिन में काटता है इसलिए मच्छर के काटने से बचने के लिए जरूरी है कि हम पूरी बांह के कपड़े पहने और मच्छरदानी एवं अन्य उपायों का प्रयोग करें।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि शरीर में बुखार होना कोई भी बीमारी होने का सामान्य लक्षण है यदि किसी को बुखार होता है तो उसे घबराए नही चाहिए बल्कि जरूरी है कि उसकी शीघ्र जांच कराई जाए जिससे यह पता लग सके कि बुखार किस वजह से हुआ है जिसके आधार पर ही शीघ्रता के साथ सही उपचार किया जा सके उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को बुखार के लक्षण होने पर किसी प्रकार की देरी ना की जाए, बुखार में देरी से जांच कराना भारी नुक़सान दे सकता है इसलिए जरूरी है कि बुखार आते ही शीघ्र ही अपने निकटतम स्वास्थ्य केंद्र पर जाएं और अपनी निशुल्क जांच एवं सही उपचार पाएं।