आधा दर्जन मांगों के समर्थन में भाकियू तोमर ने जानसठ तहसील में किया प्रदर्शन

अमजद रजा, जानसठ। भारतीय किसान यूनियन तोमर के बैनर तले आज किसानों ने बकाया गन्ना मूल्य के भुगतान, बिजली व पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हो रही दिन-प्रतिदिन बढ़ोतरी सहित आधा दर्जन मांगों को लेकर तहसील परिसर में जोरदार धरना-प्रदर्शन किया। वक्ताओं ने तहसील व ब्लाॅक के चिन्हित किये छः भ्रष्ट अधिकारियों-कर्मचारियों को बागड़ बिल्ला के सम्बोधित करते हुए चेतावनी दी कि धरना समाप्त होने तक यदि उनके खिलाफ कार्यवाही नहीं की गयी तो अनिश्चित कालीन धरना-प्रदर्शन के साथ ही आमरण अनशन भी किया जायेगा।
धरने को सम्बोधित करते हुए भारतीय किसान तोमर के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजीव तोमर ने कहा कि खेती किसान का बिजली बिल 5000 रुपए से अधिक नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर कोई पीड़ित 112 नम्बर फोन करता है तो पुलिस दोनों को थाने में ले जाकर बैठा लेती है और फिर फैसला करवाती है। इतना ही नहीं जो गुनाहगार होता है, पुलिस उसे छोड़ देती है और बेगुनाह को जेल भेज देती है। भारतीय किसान तोमर के जिलाध्यक्ष अखिलेश सिंह चैधरी ने कहा कि आज सुबह मेरे संज्ञान में एक मामला आया है कि एक रिक्शा चालक के बच्चे का एडमिशन होना था, लेकिन उसके पास पैसा नहीं था। पटवारी ने उससे पैसा मांगा, लेकिन पैसे नहीं दिये गये तो उसने उसका काम नहीं किया, जिस कारण बच्चे का एडमिशन नहीं हो पाया।
तहसील परिसर में धरना-प्रदर्शन से पूर्व पानीपत खटीमा राजमार्ग स्थित जानसठ-खतौली तिराहे पर भारतीय किसान यूनियन तोमर के जिला अध्यक्ष अखिलेश सिंह के नेतृत्व में धरना-प्रदर्शन कर जमकर नारेबाजी की गयी, जिससे वहां जाम की स्थिति बन गयी। कोतवाली प्रभारी डीके त्यागी ने भारी पुलिस बल के साथ बमुश्किल स्थिति को नियंत्रित किया। इसके बाद भाकियू कार्यकर्ता जुलूस के रूप में तहसील पहुंचे और वहां प्रदर्शन किया।