अनुसूचित जाति की महिलाओं को मिलेंगा आटा-मसाला चक्की की स्थापना के लिए ब्याज मुक्त ऋण
सहारनपुर। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम लि0 द्वारा अनुसूचित जाति के बेरोजगार बी0पी0एल0 श्रेणी की महिलाओं को आर्थिक रूप से स्ववालम्बी बनाने के लिए विशेष केन्द्रीय सहायता की धनराशि से नई पंडित दीनदयाल उपाध्याय आटा/मसाला चक्की की योजना सीधे विभाग के माध्यम से संचालित की गयी है। योजना की इकाई लागत 20 हजार रूपये जिसमें 10 हजार रूपये अनुदान तथा शेष धनराशि ब्याज मुक्त ऋण के रूप में उपलब्ध करायी जायेगी। प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना में चयनित ग्राम की अनुसूचित जाति की महिलाओं को योजना में प्राथमिकता दी जायेगी। अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम लिमिटेड के जिला प्रबन्धक श्री कमलेश कुमार ने आज यहां यह जानकारी दी। उन्होने कहा कि योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदिका अनुसूचित जाति की महिला हो, गरीबी रेखा के नीचे निवास करती हो। ग्रामीण क्षेत्र में अधिकतम 46080 वार्षिक आय तथा नगरीय क्षेत्र में अधिकतम 56460 वार्षिक आय सीमा से अधिक न हो। आय, जाति तथा निवास प्रमाण पत्र, सक्षम अधिकारी द्वारा प्रदत्त एवं आधारकार्ड, की प्रमाणित प्रति आवेदन पत्र के साथ संलग्न किया जाये। आवेदिका/उसका पति किसी भी अन्य संस्था/निगम से पूर्व में किसी योजना में लाभान्वित न हो। योजना में लाभ प्राप्त करने हेतु ग्रामीण क्षेत्र के पात्र व्यक्ति अपने विकास खण्ड मे कार्यरत सहा0/ग्रा0विकास अधिकारी(स0क0) अथवा खण्ड विकास अधिकारी से एवं शहरी क्षेत्र के पात्र व्यक्ति जिला समाज कल्याण अधिकारी (विकास) पदेन जिला प्रबन्धक उ0प्र0 अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम लि0, विकास भवन दिल्ली रोड सहारनपुर में 10 जुलाई 2021 तक कार्यालय में किसी भी कार्य दिवस में उपस्थिति होकर निर्धारित आवेदन पत्र तैयार कर आवश्यक प्रमाण पत्र संलग्न कर सहायक प्रबन्धक अथवा किसी कार्यालय सहायक से जानकारी प्राप्त कर उक्त योजना में आवेदन जमा कर सकेंगे।