स्वाधीनता के 75 वर्ष एवं राष्ट्र निर्माण में कलाकारों की भूमिका विषय पर नौ दिवसीय कला उत्सव का भव्य आरम्भ
मुजफ्फरनगर। स्वाधीनता के 75 वर्ष एवं राष्ट्र निर्माण में कलाकारों की भूमिका विषयक नौ द्विवसीय कला उत्सव का भव्य उद्धघाटन ऑनलाईन माध्यम से जूम प्लेटफार्म पर अनेक राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय कला विद्वानों द्वारा किया गया। भारतीय प्रज्ञान परिषद प्रज्ञा प्रवाह मेरठ प्रांत, मुजफ्फरनगर जिला, नव सिद्धार्थ आर्ट ग्रुप दिल्ली, उत्कर्ष ललित कला अकादमी, लखनऊ, शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, नई दिल्ली व कला उत्सव 2021 (जिसके अन्तर्गत जनपद के चार महाविद्यालयों एसडी कॉलेज ऑफ मैनेजमैंट स्टडीज, जेकेपी पीजी कॉलेज, डीएवी पीजी कॉलेज व श्री कुंद कुंद जैन पीजी कॉलेज खतौली) द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है। गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी कोरोना काल के चलते कला उत्सव की टीम निरंतर कला विद्यार्थियों के मार्गदर्शन हेतु इस प्रकार के भव्य आयोजन कर रही है जो जनपद के लिए बहुत ही गर्व का विषय है। कला उत्सव का उद्धघाटन मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक एवं प्रज्ञा प्रवाह के अखिल भारतीय संयोजक जे0 नंदकुमार एवं सिंगापुर के अंतर्राष्ट्रीय सुविख्यात कलाकार पी0 गनाना द्वारा डैमोंस्ट्रेशन श्रंखला का प्रारंभ कर किया गया। कार्यक्रम में प्रज्ञा प्रवाह पश्चिमी उत्तरप्रदेश उत्तराखंड के क्षेत्रीय संयोजक भगवती प्रसाद राघव का सानिध्य रहा। विशिष्ट अतिथि डॉ0 विशाल भटनागर (एमिनेंट आर्टिस्ट चंडीगड़) रहें। कार्यक्रम संरक्षक डॉ0 शशि शर्मा प्राचार्य डीएवी पीजी कॉलेज, डॉ0 सीमा जैन प्राचार्य जेकेपी पीजी कॉलेज, डॉ0 नीतू वशिष्ट प्राचार्य श्री कुंद कुंद जैन पीजी कॉलेज खतौली, डॉ0 संदीप मित्तल प्राचार्य एसडी कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज व डॉ० सचिन गोयल प्राचार्य एसडी कॉलेज ऑफ कॉमर्स रहे। कला उत्सव कार्यक्रम की अध्यक्षता एवं धन्यवाद ज्ञापन प्रोफेसर वीरपाल सिंह (प्रांत अध्यक्ष भारतीय प्रज्ञान परिषद, प्रज्ञा प्रवाह मेरठ) द्वारा हुआ। कार्यक्रम की प्रस्तावना डॉ० वन्दना वर्मा (एसो0 प्रो0 जेकेपी पीजी कॉलेज), मंच संचालन व अतिथियों का परिचय डॉ० रजनीश गौतम (असि0 प्रो0 डीएवी पीजी कॉलेज) द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ विपुल छाबडा द्वारा प्रस्तुत सरस्वती वंदना के साथ प्रारंभ होकर वंदे मातरम् और कल्याण मंत्र के साथ समापन हुआ। कार्यक्रम में भारतीय प्रज्ञान परिषद के प्रांत संयोजक अवनीश त्यागी, प्रज्ञा परिषद अध्यक्ष डॉ0 प्रवीण तिवारी, संयोजक प्रोफेसर वी.के. सारस्वत, देवभूमि विचार मंच के अध्यक्ष डॉ० चैतन्य भंडारी, संयोजिका डॉ0 अंजलि वर्मा, हस्तिनापुर संदेश पत्रिका के संपादक डॉ0 सूर्य प्रकाश अग्रवाल, प्रांत शोध संयोजिका डॉ० शीला टावरीजी, सहसंयोजक डॉ0 देवेश, अनुराग विजय अग्रवाल, डॉ0 एस सी वाष्णेय, डॉ महेश दिवाकर, डॉ0 नितिन कुमार, श्री भास्कर द्विवेदी मीडिया, इंजीनियर पंकज कुमार, डॉ0 जी0 आर0 गुप्ता, डॉ0 अलका तिवारी, डॉ0 सविता वर्मा, डॉ0 श्री राम शर्मा, डॉ0 दिनेश शर्मा, डॉ0 के0 के0 शर्मा, डॉ0 मीनाक्षी, डॉ0 अमिता, डॉ0 वकुल बंसल, श्री योगेश शर्मा, डॉ0 अमित अवस्थी, डॉ० अनिल जैसवाल, डॉ0 योगेश त्यागी, डॉ0 भूपेंद्र सिंह आदि उपस्थित रहें। कार्यक्रम में डा0 निशा गुप्ता, डा0 वेदपाल सिंह, डॉ0 ऋचा जैन, अमित कुमार, नीरज मौर्य, श्रीमति कनीज हुसैन, श्रीमति अर्चना, श्रीमति ज्योति, विपाशा गर्ग, विंशु मित्तल, अंकिता साहू, गुंजन सिंधी, निधी सिंहवाल, कुलदीप सैनी, नेहा गुप्ता, गौरव शर्मा, रीना शर्मा व कृष्ण कुमार आदि का सहयोग रहा।