उत्तर प्रदेश की सभी 403 विधानसभा सीटों पर अपने सभी प्रत्याशियों को खड़ा करेगी अल हिंद पार्टी

 

नई दिल्ली। अल हिन्द पार्टी के  मुख्यालय पर 2 जून 2021  को एक बैठक सम्पन्न हुई, जिसकी  अध्यक्षता गुर्जर डॉ. ओमकार नाथ कटियार ने की, जिसमें देश में वर्तमान संकट और आगामी उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों पर चर्चा हुई, जिसकी समस्त जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश की प्रदेश अध्यक्षत बेबी फरहाना को देने के बाद एडवोकेट डब्ल्यू सिंह मुंडन राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अल हिन्द पार्टी को उत्तर प्रदेश चुनाव प्रभारी नियुक्ति की गई। इसके अलावा एक निर्वाचक मंडल का गठन किया गया है, जिसकी अध्यक्षता अल हिंद पार्टी के प्रधान महा सचिव डॉ. निर्मल पटेल के अलावा अन्य गणमान्य सदस्यों में राम सखा निषाद राष्ट्रीय महासचिव अल हिंद पार्टी,  राम प्रकाश कुशवाहा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, नवाब खान वारसी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, दीपक वर्मा राष्ट्रीय अध्यक्ष झलकारी बाई कोरी ब्रिगेड, अशोक कुमार पासवान राष्ट्रीय अध्यक्ष उदा पासी ब्रिगेड, महेन्द्र प्रताप सिंह पटेल राष्ट्रीय अध्यक्ष राजा जय लाल सिंह ब्रिगेड,  रानी बिन्द राष्ट्रीय अध्यक्ष रानी लक्ष्मी बाई ब्रिगेड, एसएस नागर राष्ट्रीय अध्यक्ष विमुक्ति जनजाति आरक्षण संघर्ष समिति, एडवोकेट बाल स्वरूप गुर्जर अंतरराष्ट्रीय संयोजक सरदार पटेल विमुक्ति जन न्याय मिशन, प्रभा गंगवार राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, राधेश्याम एवं हीरा लाल वर्मा  राष्ट्रीय अध्यक्ष किसान चेतना मंच आदि को शामिल किया गया है।
         अल हिंद पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने अब तक एक दर्जन से अधिक केस सुप्रीम कोर्ट और दिल्ली हाई कोर्ट से जीते हैं, जिसमें प्रमुख मंडल केस (1990-92), रोस्टर केस (1994-95), रोस्टर मे रोस्टर केस (2002-03), 93 संशोधन 2006 के एडमिशन केस, जाति जनगणना केस (2011-12), लिपिका गुप्ता केस (2012), 1857 स्वतंत्रता सेनानी पेंशन 2010, विमुक्ति जनजाति आरक्षण केस 2014-17, 1857 स्वतंत्रता सेनानी सूची केस( 2015-17), राष्ट्रीय युद्ध स्मारक केस,( 2019)आदि प्रमुख के बारे मे उत्तर प्रदेश के हर क्षेत्र उनके गांव मे आजादी से अब तक के नेताओ की गद्दारी भरी करतूतों को उजागर करेगे कि जो कार्य ईन सभी बड़ी पार्टियों के गुलाम नेताओं को विधानसभा और संसद में करने चाहिए थे न करके अपना और अपने गुलामों का पेट आम जनमानस को गुमराह करके भरते रहे हैं। अतः अपने अपने समाजों के दलालों, समाजों के ठेकेदारों और अमर बेल बनाकर फलने फूलने वालों की पहचान करके निर्णय ले अल हिंद पार्टी ने बिना किसी विधायक संसद के ये सारे कार्य राष्ट्र निर्माण के लिए किए हैं । अल हिन्द पार्टी के नेता सारे दस्तावेज क़िताबों के रूप मे प्रमाण प्रदेश की आम जनता के सामने रखेगे  ऐसे ही अगर आम जनता भी अपने आक़ाओं से भी ऐसे लिखित प्रमाण मांगेगी तब वो बहुरूपिया नेताओ की सही से पहचान कर सकेगी।
      अल हिंद पार्टी निम्न प्रमुख मुद्दो पर उत्तर प्रदेश चुनाव लड़ेगी
1. सरदार पटेल के साथ अब तक की केंद्रीय और राज्यों की सरकारों द्वारा किए गए अन्यायों को बताएगी जिसमें प्रधान मंत्री आदरणीय नरेंद्र दामोदर मोदी को लिखे गए दो दर्जन से अधिक पत्रों उसके जवाबों को सामने लाएगी।
2. 1857 स्वतंत्रता सेनानी पेंशन और मान सम्मान लागू करने तथा दुनिया के सबसे बड़े घोटाले-बनावटी स्वतंत्रता सेनानी लाख सत्तर हजार से अधिक की अब तक जांच नहीं कराने के लिए बताएगी।
3. ओबीसी की नौकरियों का बैकलॉग भरने के लिये
4. आबादी के अनुसार हिस्सेदारी और भागीदारी लागू करने के लिए
5. 1857 की लूटी और छीनी जमीनों को वापस करने अथवा आज की कीमत देने के लिए और 1857 के स्मारक प्रदेश की राजधानी, जिलों कस्बों आदि में बनवाने के लिए।