कोरोना महामारी के दौरान बेरोजगार हुए लोगों की मदद को आगे आया सीएमएस छात्र सार्थ शाह


शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल गोमती नगर के 1ं2वीं कक्षा के छात्र सार्थ शाह ने कोरोना महामारी के दौरान बेरोजगार हुए लोगों की मदद करने का बीड़ा उठाया है। इस प्रतिभाशाली छात्र ने आधुनिक तकनीक व प्रौद्योगिकी का प्रयोग कर अब तक लगभग 500 बेरोजगार लोगों की मदद की है। कोरोना संकट के समय में जब हजारों लोगों ने अपनी नौकरी खो दी है, तब जनमानस की मदद हेतु किशोर व युवा पीढ़ी का आगे आना निश्चित ही प्रशंसनीय है। सीएमएस प्रेसीडेन्ट प्रो. गीता गाँधी किंगडन ने जरूरतमंदों की मदद हेतु सार्थ को बधाई देते हुए कहा कि शैक्षणिक उत्कृष्टता के अलावा सीएमएस छात्र मानवता की सेवा में भी सदैव अग्रणी रहते हैं, यही सीएमएस की पहचान है। सीएमएस गोमती नगर की प्रधानाचार्य आभा अनन्त ने भी सार्थ के परोपकारी कार्य पर हार्दिक प्रसन्नता व्यक्त की है।


                सीएमएस के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी हरि ओम शर्मा ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण अपनी नौकरी खो चुके लोगों व श्रमिकों की व्यथा देखकर सीएमएस इस प्रतिभाशाली छात्र सार्थ ने उनकी मदद करने का निश्चिय किया। प्रारंभ में उसने लगभग 500 ऐसे श्रमिकों का एक डेटाबेस बनाया, जिन्होंने अपनी नौकरी खो दी थी, जिनमें से लगभग 160 भुखमरी के कगार पर थे। इसके बाद उसने एक वेबसाइट http://www.kzoininghelpinghands.com बनाई और इस डेटाबेस को जरूरतमंदों के फोन नंबरों के साथ अपलोड किया। उन्होंने फेसबुक और व्हाट्सएप जैसे अपने सोशल मीडिया हैंडल के माध्यम से अपनी वेबसाइट का विज्ञापन किया। धीरे-धीरे उनके प्रयासों का फल तब मिलने लगा जब लोगों ने इन श्रमिकों को रोजगार देना शुरू किया। श्री शर्मा ने बताया कि एक अनौपचारिक वार्ता में सार्थ ने बताया कि इस गतिविधि के माध्यम से उन्हें खुद अपने लिए कुछ नहीं चाहिए, परन्तु जब रोजगार पाने वाले श्रमिक व अन्य लोग उसे धन्यवाद देते हैं, तब बड़ी खुशी मिलती है और मैं इसी को ईश्वर का उपहार मानता हूँ। सार्थ ने उम्मीद जताई कि अन्य छात्र भी उसके इस पुनीत कार्य में हाथ बँटाकर जरूरतमंदों की मदद को आयेंगे।