उचित फीस

नीरज त्यागी, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

लॉक डाउन के समय में अपने बच्चों की पढ़ाई खराब होने का डर शर्मा जी को लगातार हो रहा था। फिर कुछ खबर आई कि बच्चों की पढ़ाई ऑनलाइन होगी। अब शर्मा जी को कुछ तस्सली हुई, उन्हें लगा शायद अब बच्चों का 1 साल खराब होने से बच जाएगा। ऑनलाइन पढ़ाई शुरू होने के कुछ दिनों बाद ही फीस की स्लिप भी मिल गयी। फीस स्लिप को देखकर शर्मा जी की खुशी का ठिकाना ना रहा। उन्होंने देखा फीस की स्लिप तो केवल 11000 रुपये की है, जबकि पिछले साल तो एक क्वार्टर की फीस 12000 रुपये थी।

         शर्मा जी बहुत खुश थे कि चलो लॉक डाउन में स्कूल वालों ने कुछ तो फीस कम कर दी। तभी अचानक शर्मा जी का माथा ठनका, उन्होंने पिछले साल की स्कूल की फीस की स्लिप निकाली और उसमे 12000 रुपये की पूरी डिटेल देखने के बाद उन्हें समझ में आया कि वह तो बेकार ही खुश हो रहे थे। 12000 रुपये क्वार्टर की फीस में 2000 रुपये तो बस की फीस थी।बच्चे जब स्कूल नही जाएंगे और घर पर ही पढ़ाई करेंगे तो स्कूल की फीस के अलावा बस की फीस तो जाएगी ही नहीं। इसका मतलब इसकी स्लिप तो 10000 रुपये की आनी चाहिए थी, जो कि 11000 रुपये की थी। शर्मा जी अपनी शिकायत लेकर स्कूल की प्रिंसिपल मिलने से मिलने के लिए स्कूल पहुंचे।

          प्रिंसिपल के सामने पहुंचने के बाद उन्होंने प्रिंसिपल मैडम से पूछा-मैडम अगर बस की फीस नहीं जानी है तो उसे काट के तो एक क्वार्टर की फीस केवल 10000 रुपये ही बनती है। यह आपने हजार रुपये किस बात के बढ़ा दिए। प्रिंसिपल साहिबा अचानक शर्मा जी के सवाल से सकपका गयी, उन्होंने शर्मा जी को समझाने की कोशिश की, कि देखिए सर! बच्चों की पढ़ाई तो हो ही रही है। हर साल की तरह सभी टीचरों की सैलरी तो वैसी की वैसी ही देनी है और आपको पता ही है कि हर साल सभी को इन्क्रीमेंट भी देना होता है। सभी बातों को ध्यान में रखते हुए फीस तो बढ़ानी ही पड़ती है। मैडम मेरी बड़ी बहन भी आपके स्कूल में टीचर है और जहां तक मुझे जानकारी है। इस साल आपने कोरोना की वजह से अपने किसी भी अध्यापक को इन्क्रीमेंट देने से मना किया है।

          अगर ऐसा तो आप किस बात के लिए फीस बढ़ा रही हैं, जबकि हम सभी के काम 2 माह बंद रहे हैं। प्रिंसिपल साहिबा से कोई जवाब ना बन पाया और फीस में हुई इस वृद्धि का कोई भी जवाब ना होने के कारण उन्होंने शर्मा जी से कहा आपका दिल करे तो आप बच्चों को यहां पढ़ा लीजिये, वरना उन्हें कहीं और पढ़ा लीजिए। फीस तो कम नही होगी। शर्मा जी प्रिंसिपल साहिबा की इन बातों को सुनकर अपने आप को ठगा हुआ सा महसूस कर रहे थे, लेकिन कोरोना की इन परिस्थितियों में अब वह किसी और स्कूल में बच्चों का एडमिशन भी नहीं करा सकते थे, इसलिए बिना मतलब ही फीस वृद्धि का थप्पड़ गाल पर खाकर वह अपना गाल सहलाते हुए फीस भरकर अपने घर वापस आ गए।

 

65/5 लाल क्वार्टर राणा प्रताप स्कूल के सामने ग़ाज़ियाबाद उत्तर प्रदेश 201001