श्रमिकों को रोजगार देने के मामले में डीएम सख्त, कहा- श्रमिकों का पंजीकरण करके प्रत्येक दशा में रोजगार देना सुनिश्चत किया जाये


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे कहा कि प्रत्येक दशा में कामगारों व श्रमिकों का पंजीकरण कराया जाना सुनिश्चत किया जाये। श्रमिकों की स्किल मैपिंग भी कराई जाये ताकि उन्हे उनकी दक्षता के आधार पर रोजगार दिया जा सके। जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे आज जिला पंचायत सभागार में कामगारों एवं श्रमिकों के सामाजिक एवं आर्थिक सुरक्षा व विकास के लिए जिला स्तरीय(सेवायोजन एंव रोजगार)समिति की अधिकारियों के साथ बैठक कर रही थी।
उन्होने निर्देश दिये कि शैक्षिक संस्थाओं से पास आउट छात्रों का डेटा सेवायोजन पोर्टल पर फीड कराया जाये जिसमे कौशल विकास व आई टी आई के छात्रों का भी किया जाये। उन्होने कहा कि समिति से जुुुुुुुुुुडे सम्बन्धित विभाग इसका वृहद प्रचार-प्रसार करें। उन्होने कहा कि प्राईवेट सैक्टर से भी समन्व्य स्थापित किया जाये। सेवायोजन विभाग कैरियर चार्ट बनाये। उन्होने कहा कि अधिक से अधिक रोजगार मेलों का आयेाजन किया जाये ताकि अधिक लोगो को रोजगार उपलब्ध हो सके। जिलाधिकारी ने बताया कि बाहर जनपदों से आये हुए 279 स्किल्ड श्रमिक चिन्हित हुए है।



उन्होने कहा कि जल निगम, लोक निर्माण विभाग आदि जैसे विभागों में स्किल्ड व नाॅन स्किल्ड श्रमिकों की अधिक आवश्यकता होती है। उन्होने वहां पर कार्य दिलवाया जाये। उन्होने कहा कि इस सम्बन्ध में कार्यशाला व प्रशिक्षण का भी आयोजन कराया जाये, जिसमें श्रमिकों को उनके अधिकारों व योजनाओं की जानकारी उपलब्ध कराई जाये। उन्होने कहा कि इसके लिए विभागवार लक्ष्य निर्धारित किया जाये। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव सहित समिति से सम्बन्धित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।