एसडी कालेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टैक्नोलोजी के बायोटेक्नोलोजी विभाग के छात्रों का इम्यूनिटी मील्स का आईडिया एकेटीयू व आईईटी लखनऊ की ई-सेल द्वारा स्वीकार


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। एसडी कालेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टैक्नोलोजी के बायोटेक्नोलोजी विभाग के छात्रों का एकेटीयू व आईईटी लखनऊ की ई-सेल द्वारा आयोजित कोविड-19 आईडियाथाॅन की प्रतियोगिता में दिया गया इम्यूनिटी मील्स का आईडिया स्वीकार किया गया। यह प्रतियोगिता तीन चरणों में आयोजित की गई थी, जिसमें उ0प्र0 के अन्य संस्थानों से भी प्रस्ताव मांगे गये थे। इसमें लगभग 300 छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया। 
एसडी कालेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टैक्नोलोजी के अधिशासी निदेशक प्रो0 (डा0) एसएन चौहान ने कहा कि वर्तमान युग तकनीकी एवं न्वोन्मेष का है। आमजन की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर हमें तकनीकी एवं नवाचार पर केन्द्रित होकर समाधान देने होंगे। तकनीक व नवाचार ऐसा हो जो हमारे पर्यावरण को किसी भी प्रकार की क्षति पहुँचाये बिना आमजन का जीवन सुगम बना सके। डा0 अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित कोविड-19 आईडियाथाॅन में एसडी कालेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टैक्नोलोजी के मैकेनिकल, कम्प्यूटर एवं बायोटैक्नोलोजी विभाग के छात्रों ने नवीनतम आईडिया का प्रस्ताव भेजा। प्रदेश में प्रमुख विधा में 3 सर्वोत्तम प्रस्तावों को विशेषज्ञों द्वारा चुना गया, जिसमें हमारे बायोटैक्नोलोजी के छात्रों द्वारा दिया गया प्रस्ताव भी चुना गया। छात्रों ने पूरे प्रस्ताव की पीपीटी व विडियो बनाकर विश्वविद्यालय को भेजी, जिसका विशेषज्ञों ने जाँच करने के उपरान्त चयन किया। छात्रों का इम्यूनिटी मील्स का आईडिया आज के कोरोना काल में बहुत ही ग्राहय है। 


प्रतियोगिता के बारे में बायोटैक्नोलोजी विभाग के विभागाध्यक्ष डा0 नवीन द्विवेदी ने बताया कि प्रतियोगिता के फाईनल राउंड में कुल 9 टीमें चयनित हुई। संस्थान के छात्र/छात्राओं ने फार्मूलेसन एडाप्टेसन ऑफ बैलेसेन्ड एंड इम्यूनिटी इनहैन्सिंग मील्स इन हाॅस्टल प्रोजेक्ट पर अपने आईडियाज को सबमिट किया था। जिसमें एसडी कालेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टैक्नोलोजी के बायोटैक्नोलोजी तृतीय वर्ष के अक्षित चैधरी, सिमरन व अंजली का चयन हुआ। संस्थान के प्राचार्य डा0 एके गौतम ने छात्र-छात्राओं को पुरस्कार और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित भी किया।