अच्छा लगता है

राजीव डोगरा 'विमल' शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

जीवन का हर पक्ष 

रुका सा हुआ है

देखकर अच्छा लगता है।

 

एक तनहाई सी 

छाई हुई है चारों ओर 

देखकर अच्छा लगता है।

 

रुकी हुई सड़कें

रुके हुए जज्बातों की तरह लगती है 

देखकर अच्छा लगता है।

 

कानों को चीरती 

रुकी हुई वाहनों की गनगणाहट

देखकर अच्छा लगता है।

 

मरती हुई इंसानियत में 

आती नवीन चेतना को

देखकर अच्छा लगता है।

 

युवा कवि लेखक कांगड़ा
भाषा अध्यापक गवर्नमेंट हाई स्कूल, ठाकुरद्वारा हिमाचल प्रदेश