पोस्ट पैमेंट बैंक के माध्यम से डाकघर ने किया दो करोड़ से अधिक का भुगतान, शिक्षा वाहिनी ने की मेल ओवरसियर को कोरोना योद्धा घोषित कर सम्मानित करने की मांग


शि.वा.ब्यूरो, खतौली। विश्वव्यापी कोरोना महामारी में घोषित देश व्यापी लाॅकडाउन डाक विभाग के मेल ओवरसियर भी कोरोना योद्धा की चुनौतिपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। जनपद में पोस्ट पैमेंट बैंक के माध्यम से अब तक दो करोड़ से भी अधिक धनराशि का भुगतान किया जा चुका है, जिसमें से लगभग पचास लाख का भुगतान खतौली उप डिवीजन में किया गया है। 
मुजफ्फरनगर मण्डल के प्रवर अधीक्षक डाक वीर सिंह की माने तो बीते शुक्रवार यानी 1 मई 2020 तक पूरे मुजफ्फरनगर मण्डल में 1 करोड़ 85 लाख का भुगतान पोस्ट पैमेंट बैंक द्वारा किया जा चुका था। खतौली उपडाकपाल रामेश्वर प्रसाद यादव के अनुसार शुक्रवार तक उनके डाकघर से दो लाख का भुगतान पोस्ट पैमेंट बैंक के माध्यम से किया जा चुका है। बता दें कि पोस्ट पैमेंट बैंक द्वारा उन ग्राहकों को भी भुगतान किया जाता है, जिनका डाकघर में खाता भी नहीं है, इतना ही नहीं ग्राहकों की डिमांड पर सम्बन्धित डाककर्मी ग्राहक को उनके घर पर दस हजार तक का भुगतान उपलब्ध कराता है। बस शर्त इतनी है कि उक्त ग्राहक का किसी भी बैंक खाते में वांछित उपलब्ध हो। पोस्ट पैमेंट बैंक से भुगतान प्राप्त करने के लिए किसी तरह की औपचारिकता की आवश्यकता नहीं होती है, इसके लिए केवल उपभोक्ता के फिंगरप्रिंट ही पर्याप्त हैं।



बता दें कि खतौली उपमण्डल में सतीश कुमार व सुन्दर लाल मेल ओवरसियर के रूप में कार्यरत हैं। इस उपमंडल में 10 उपडाकघर व 71 शाखाडाकघर आते हैं, जिनमें खतौली, जानसठ, मंसूरपुर, बुढ़ाना व ऐलम का क्षेत्र शामिल है। व्यवस्था के अनुसार दोनो मेल ओवरसियर का दायित्व है कि जिस शाखा या उप डाकघर में पोस्ट पैमेंट बैंक के तहत भुगतान के धनराशि की आवश्यकता होती है, वे उसकी व्यवस्था कराते हैं। लाॅकडाउन के दौरान ये कार्य बेहद चुनौतीपूर्ण है। इसलिए शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र मण्डल के प्रवर अधीक्षक डाक वीर सिंह सहित अन्य विभागीय आला अफसरों से अपेक्षा करता हैं कि इन मेल ओवरसियर के चुनौतीपूर्ण कार्य के मद्देनजर इन्हें कोरोना योद्धा घोषित करते हुए इन्हें सम्मानित करें।