इतिहास के पन्नों मे गुम हो गये एतिहासिक पवेलियन फुटबाल ग्राउंड दान देने वाले मानसूमरथ दास 

वीरेन्द्र सिंह रावत, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

 देहरादून को महत्वपूर्ण जमीन और बिल्डिंग को दान करने वाले मानसूमरथ दास जैन की चौथी पीढ़ी के अमित कुमार जैन से आज 21st मई को देहरादून फुटबाल अकैडमी (डीएफए) के संस्थापक अध्यक्ष और हेड कोच वीरेन्द्र सिंह रावत की वार्तालाप हुई। अमित कुमार जैन ने बताया कि कैसे हमारे पूर्वजो ने देहरादून मे आकर देहरादून बसाने के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान किया था, लेकिन आज हम चौथी पीढ़ी को कोई पूछने वाला नहीं है। हम अंधकार मे खो गए है, कोई नहीं है हमारी सुध लेने को।

वीरेन्द्र सिंह रावत के प्रश्न के प्रत्युत्तर में अमित कुमार जैन ने बताया कि आज देहरादून में ही नहीं, बल्कि पूरे भारत में प्रसिद्ध  फुटबाल ग्राउंड देहरादून को मान सुमरथ दास पवेलियन फुटबाल ग्राउंड को हमारे पूवजों ने एक विरासत (दान) मे दिया था। 

अमित कुमार जैन ने बताया कि प्रथम पीढ़ी 1856 मे सहारनपुर से देहरादून मात्र 12000 रुपये लेकर आये थे और फिर धीरे धीरे देहरादून को बसाने मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। लाला भुगवान दास उनके दो पुत्र लाला मान सुमरथ दास और लाला जुगमेदर दास ने अपनी जमीन दान देकर देहरादून को बसाने मे बड़ा योगदान दिया था। अमित कुमार जैन ने बताया इसके बाद लाला मान सुमरथ दास के पुत्र लाला नेमी दास ने 1941 को पवेलियन ग्राउंड देहरादून मे मान सुमरथ मेमोरियल देहरादून फुटबाल लीग का आयोजन किया गया था। जो आज तक भी जिला फुटबाल लीग लाला मान सुमरथ दास मेमोरियल फुटबॉल लीग देहरादून के रूप में कायम है। 

अमित कुमार जैन ने बताया कि लाला जुगमेद्र दास के पौत्र प्रीतम सेन ने टाउन हॉल नगर निगम देहरादून को भी दान किया था। उन्हीं के नाम पर जिसका नाम लाला जुगमेद्र दास टाउन हॉल रखा गया है। दूंन हॉस्पिटल का महिला अस्पताल भी लाला जुगमेद्र दास द्वारा दान मे दी गई इनकी ही देन है। आज उनके नाती अमित कुमार जैन को पहली बार उत्तराखंड फुटबाल रत्न अवार्ड 2019 मे नवाजा गया था और उसके बाद आज फिर अमित कुमार जैन को सन्मानित किया।

वीरेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि आपकी हर पीढ़ी को सम्मानित करना सरकार का दायित्व बनता है, जिन्होंने देहरादून को बसाने और जमीन को दान करने मे अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और लाखो खिलाडियों का भविष्य बनाया है। श्री रावत ने बताया कि इस पवेलियन ग्राउंड ने ही मेरा जीवन बनाया है।

 



पूर्व राष्ट्रीय खिलाड़ी, वर्तमान राष्ट्रीय कोच और क्लास वन रेफरी 

5 अंतराष्ट्रीय, 21 राष्ट्रीय और 19 स्टेट अवार्ड से सम्मानित