घाघ भडहरी की कहावत, हर माह करें एक चीज का परहेज 







डाॅ दशरथ मसानिया,  शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

चेत गुड़ बैसाखे तेल।

जेठ पंथ असाढ़े बैल।।

सावन साग न भादों दही।

क्वार करेला कार्तिक मही।।

अगहन जीरो फूंसे धना।

माघे मिश्री फागुन चना ।।

ये बारह जो देव बचाये।

बा घर कभी बैद न जाये।।

स्वाथ्य के लिये निम्नलिखित माह में एक-एक चीज वर्जित है

1 चैत्र         चना

2 बैसाख      तेल

3 ज्येष्ठ       दोपहर में पैदल यात्रा

4 आसाढ।  बेल

5 सावन      हरी पत्ती की साग

6 भादव      दही

7 क्वार       करेला

8 कार्तिक    छाछ

9 अगहन   जीरा

10  पौष    धनिया

11 माघ      मिश्री

12 फाल्गुन  चना

 

संकलन- आगर (मालवा) मध्य प्रदेश