एसडी कालिज ऑफ इन्जीनियरिंग एण्ड टैक्नोलाॅजी द्वारा तैयार किये गये अनूठे एक हजार फैश शिल्ड वितरित


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। एसडी कालिज ऑफ इन्जीनियरिंग एण्ड टैक्नोलाॅजी के द्वारा कोरोना वायरस से सुरक्षा एवं बचाव के लिए जन सामान्य को संस्थान द्वारा तैयार किये गये एक हजार फैश शिल्ड यानी चेहरा सुरक्षा कवचो का वित्तरण किया गया। इस अवसर पर.पुलिस लाईन मे SSP अभिषेक यादव, एसपी सिटी सतपाल अन्तिल, पुलिस अधीक्षक यातायात बीबी चौरसिया, संस्थान के सचिव अनुभव कुमार, समाज सेवी डा. ए0 र्कीतिवर्धन व निदेशक प्रो0 एसएन चौहान उपस्थित रहेे। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव ने एसडी कालेज आफॅ इन्जीनियरिंग के द्वारा प्रदत फैश शिल्ड की गुणवत्ता की सराहना की और लगभग चार सौ तीस फैश शिल्ड आरआई को वितरण करने हेतू निर्देशित किया।



संस्थान के निदेशक प्रो0 एसएन चौहान ने बताया कि एसडी कालिज ऑफ इन्जीनियरिंग एण्ड टैक्नोलाॅजी के मैकनिकल विभाग अध्यक्ष इ0 मनोज झा के नेतृत्व मे थ्री डी प्रिन्टर की सहायता से फैश शिल्ड का डिजाइन करके बनाया गया है, जिसमे पालि मैटिरियल व ट्रान्सपैरेन्ट प्लास्टिक सीट का उपयोग किया गया। यह फैश शिल्ड पूरे चेहरे को सुरक्षा प्रदान करता है तथा इसको इस्तेमाल करना भी आसान है। फैश शिल्ड को लगातार चेहरे पर लगया जा सकता है तथा इससे कार्य क्षमता पर भी कोई  नकारात्मक प्रभाव नही पडता है। फैश शिल्ड को सैन्टाइज करना भी आसान है। इसे साबुन पानी से धोया जा सकता है अथवा कोई सैन्टाइजर प्रयोग मे लाया जा सकता है। मोटर साईकिल,स्कूटर, साईकिल अथवा अन्य किसी भी वहीकल से आते-जाते, दूकान पर, बाजार मे अथवा जब भी आप किसी से सम्पर्क मे आते है तो मास्क ही बचाव है।



मास्क को सैन्टाइज करना इतना आसान नही है, जितना फैश शिल्ड को तथा इसमे सांस लेने भी कोई परेशानी नही होती। प्रो0 चौहान ने आगे बताया कि फैश शिल्ड कोरोना समाप्त होने के बाद भी प्रयोग मे लाया जा सकता है, क्योकि यह सामान्य धूल एवं अन्य प्रदुषण तत्वो से भी आख, नाक व चेहरे को सुरक्षा प्रदान करता है। तथा मास्क मे जहाॅ चेहरे का पहचानना मुस्किल हो जाता है, वही फैश शिल्ड मे चेहरा स्पष्ट दिखाई देता है। तकनीक के इस सरल एवं सुगम उपयोग के लिए उन्होने एसडी कालिज ऑफ इन्जीनियरिंग एण्ड टैक्नोलाॅजी के मैकनिकल विभाग की सराहना की। उन्होने कहाॅ कि तकनीक वही जो जन मानस के लिए उपयोगी हो और लोगो का जीवन सुगम बनाये। इस अवसर पर मनोज झा, डा0 विकास कुमार, राजेन्द्र कुमार, राजीव कुमार व प्रमोद कुमार मुख्य रूप से मौजूद रहे।