श्रीराम कालेज ऑफ फार्मेंसी का कोरोना वायरस के खिलाफ अभियान, शिक्षको एंव छात्रों ने तैयार किया हर्बल सेनेटाईजर


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। श्रीराम कालेज ऑफ फार्मेंसी द्वारा वैश्विक पटल पर चर्चा का विषय बन रहे कोरोना वायरस पर जागरूकता अभियान चलाया गया। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य इस वायरस एवं इससे उत्पन्न होने वाले रोगो की रोकथाम के बारे में लोगों को जागरूक करना रहा। जागरूकता अभियान के तहत सर्वप्रथम अध्यापको के मार्गदर्शन मे कालेज की प्रयोगशाला मे छात्रों ने हर्बल सेनेटाईजर तैयार किया एवम् आसपास के क्षेत्र मे जाकर लोगो के हाथों को सेनेटाईज करवाकर सेनेटाईजर के प्रयोग के बारे मे जागरूक किया। छात्रों ने जनसामान्य को बताया कि सेनेटाईजर को कैसे प्रयोग करते है और इसके क्या लाभ है, साथ ही लोगो को पम्पलेट बाटकर कोरोना वायरस से बचाव के बारे मे भी बताया तथा साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने की अपील की। इसके बाद सभी विद्यर्थियो एंव शिक्षकों ने विद्यालय के मुख्य द्वार पर पहुॅचकर सभी आने जाने वाले व्यक्तियो का सेनेटाजर द्वारा हैंडरब कराए तथा इससे सभी कालेज कर्मचारी व लोगो मे संक्रमण के कारण फैलने वली बीमारीयो के रोकथाम को लेकर एक नयी चेतना जगी।



संस्था के चैयरमेन डॉ0 एससी कुलश्रेष्ट ने छात्रो द्वारा बनाए गए हर्बल सेनेटाईजर की प्रसंशा की तथा कहा कि छात्रो एंव शिक्षको का यह कार्य समाज के प्रति उनके कर्तव्यों का पालन करना दर्शाता है। श्रीराम कालेज आफ फार्मेसी के निदेशक डॉ0 गिरेन्द्र कुमार गौतम ने बताया की आजकल अनेक प्रकार के संक्रमण हमारे वातावरण में बहुत तेजी से फैल रहे है। उन्होंने आजकल बहुत सी चर्चाओ का विषय बने कोरोना वायरस पर जानकारी देते हुए कहा कि इसकी शुरूआत चीन के यूआन शहर से हुई और अब तक यह लगभग 145 से ज्यादा देशों को अपनी चपेट मे ले चुका है। इस संक्रमण के कारण मरने वालो का आंकडा लगभग 65 हजार को पार कर चुका है तथा विश्व स्वास्थ संगठन ने इसे महामारी घोषित की है। उन्होंने आगे कहा कि अभी भी हम इतनी गम्भीर बीमारी को भी आसानी से रोक सकते है बस हमे कुछ सावधानिया बरतनी होगी जैसे सेनेटाजर का प्रयोग, मास्क, हैडरब, जैसी छोटी छोटी आदतों से हम इस संक्रमण को फैलने से रोक सकते है।



इस कार्य मे शिक्षक श्वेता पुंडीर, सोनू, टिंकु, रोहित मलिक, अमल कुमार, छवि गुप्ता, शफकत जैदी, अवनीका त्यागी एंव छात्रों मे प्रियांशू, आर्यन शर्मा, विकास विश्वकर्मा, अब्दुल वाहिद, आसिफ अंसारी, रजत चैहान, मनीष वैधवान आदि का योगदान रहा।