श्रीमदभागवत कथा के अंतिम दिन श्रीकृष्ण-सुदामा मिलन की कथा सुनाई




शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। मौहल्ला बचन सिंह कॉलोनी की गली नंबर-2 में श्रीमद् भागवत कथा  के अंतिम दिन कथा व्यास अमृत देव जी महाराज ने श्रीमद् भागवत में श्रीकृष्ण-सुदामा मिलन का प्रसंग सुनाया। कथा सुनाते हुए महाराजश्री ने कहा कि  भगवान श्री कृष्ण के बचपन के घनिष्ठ मित्र सुदामा उनसे मिलने द्वारिकाधीश की नगरी द्वारिका में पहुंच जाते हैं। महल में द्वारपाल से संदेश भिजवाते हैं, तो कृष्ण जी नंगे पैर दौडे हुए द्वार पर आते हैं और सुदामा की हालत देखकर उन्हें गले लगा कर रोने लगते हैं। इसके बाद एक मुट्ठी चावल खाकर भावविभोर हो गए।

आज की कथा के दौरान अनेक भजन भी सुनाए गए। कथा में सुदामा की गरीबी के बारे में सुनकर श्रद्धालु भावविभोर हो गए। आज की कथा के मुख्य यजमान उत्तरप्रदेश सरकार के मन्त्री कपिलदेव अग्रवाल ने महाराजश्री का आशीर्वाद लिया। वरिष्ठ भाजपा नेता पंडित श्री भगवान शर्मा ने मंत्री कपिल देव अग्रवाल का माला पहनाकर स्वागत किया। सरवट ग्राम प्रधान श्रीमती उषा शर्मा ने कथा व्यास को फटका पहनाया। आज की कथा में राजकुमार तायल, श्रीपाल भगतजी, अशोक शर्मा,  सुमन शर्मा, महेशदत्त शर्मा, मुदित शर्मा, अनुराधा शर्मा, कमल राणा, पंडित रामचन्द्र मिश्रा,  सोहनवीर सिंह, सुरेश शर्मा, ऋषभ शर्मा, श्याम लाल, सोमेंद्र शर्मा, सुमन गोयल, रूबी कश्यप, रमेश ठाकुर,  नीलम चौधरी, राकेश गुप्ता, शिव कुमार, कमलेश शर्मा,चंद्रकिरण,चंद्रवीर  श्याम लाल धीमान,महेश पाल,योगराज सिंह, सुखबीरी, ब्रिजेश गोयल, गजराज सिंह, पलटू सिंह, कोमल, कमलेश, गुडडी  समेत बड़ी संख्या में मोहल्ला वासी भी मौजूद रहे।