एसडीएम इन्द्रकांत द्विवेदी ने किया निष्ठा कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षण का शुभारम्भ, कहा-पूरे मन से प्रशिक्षण में प्रतिभाग करें शिक्षक



शि.वा.ब्यूरो, खतौली। विकास क्षेत्र में निष्ठा कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षण का शुभारम्भ गंगनहर के निकट स्थित किडजी वेम्बले स्कूल  में किया गया, जिसका उद्घाटन उपजिलाधिकारी इन्द्राकांत द्विवेदी द्वारा किया गया। 
ज्ञात हो कि निष्ठा कार्यक्रम के तहत इस प्रशिक्षण को केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा चलाया जा रहा है, जिसके तहत पूरे देश के सभी अध्यापकों को प्रशिक्षण दिया जाना है। 



इसी कार्यक्रम के तहत विकास क्षेत्र के अध्यापकों को प्रशिक्षित करने हेतु आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ उपजिलाधिकारी इन्द्रकांत द्विवेदी व खण्ड शिक्षा अधिकारी अलका अग्रवाल ने दीप प्रज्जवलित करके किया। इस अवसर पर उपजिलाधिकारी ने अपने उद्बोधन में सभी अध्यापकों को पूरे मन से प्रशिक्षण में प्रतिभाग करके बच्चों को लाभान्वित करने की अपील की। उपजिलाधिकारी इन्द्रकांत द्विवेदी ने कहा कि किसी राष्ट्र के निर्माण में शिक्षक की बहुत बडी भूमिका होती है। शिक्षक नई पीढ़ी को जिस तरह से पढ़ाता है, देश की दिशा और दशा उसी प्रकार बनती है। उन्होंने कहा कि चाणक्य भी एक शिक्षक था और उन्होंने कहा था कि शिक्षक राष्ट्र का निर्माता होता है। उपजिलाधिकारी ने शिक्षको से आग्रह किया कि वे प्रशिक्षण में जो भी सीखें उसे धरातल तक ले जायें और बच्चों को पढ़ाने में उसका उपयोग करें। उन्होंने कहा कि सरकार की शिक्षा नीति बदल रही है अब शिक्षा को रोजगार बनाने के प्रयास किये जा रहे हैं।



इस अवसर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए खण्ड़ शिक्षा अधिकारी अलका अग्रवाल ने कहा कि सभी अध्यापकों को यह सोचकर प्रशिक्षण लेना चाहिए कि भविष्य में प्रशिक्षण का लाम बच्चों के लिए बेहद लाभकारी होगा। उन्होंने प्रशिक्षण का उपयोग बच्चों के भविष्य के लिए प्रयोग करने की सलाह दी। 



इस अवसर पर पूनम रानी, सुजाता रानी, सूरज कुमार पुनीत, विनित वर्मा, पूनम सिंह, विक्रान्त कुमार, पायल, नाजरा बेगम, ओमपाल, शरद, अरविंद, मनीष, मोहित, राजेश, रविन्दर व वाहिद आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे। कार्यक्रम में विद्यालय के प्रबन्धक रीतु राज का सराहनीय योगदान रहा।