एक बार फिर शुरू होगा पहाड़ी इलाको में बर्फ़बारी का दौर, कई जगहों पर होगी बारिश

शि.वा.ब्यूरो, नई दिल्ली। पिछले कुछ दिन पहले हुई व्यापक बारिश के बाद पिछले 3 दिनों से मौसम शुष्क बना हुआ था, लेकिन आज उत्तरी अफगानिस्तान और पाकिस्तान के इलाको पर एक सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ पहुंच गया है। इस सिस्टम के प्रभाव से पश्चिमी राजस्थान पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र विकसित हुआ है, इसके प्रभाव से राजस्थान के कई इलाको में हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गयी है, जबकि यह प्रणाली आज देर रात तक पंजाब, हरियाणा, दिल्ली व पश्चिमी उत्तर प्रदेश के भागो को प्रभावित करने लगा। 


11 मार्च  की शाम तक इन गतिविधियों में बढ़ोतरी देखी जायेंगी और पंजाब, हरियाणा, दिल्ली व पश्चिमी उत्तर प्रदेश सहित उत्तर पश्चिमी राजस्थान और उत्तर प्रदेश में भी अधिकतर जगह बादलो के बीच हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गयी। बारिश की इन गतिविधियों के चलते अगले 4 दिनों तक  दिन के तापमान नीचे ही बने रहेंगे और तापमानं बढ़ने के लिए हमें कम से कम 16 मार्च तक इंतजार करना पड़ेगा। जब पश्चिमी विस्कोभ चले जायेंगे और लम्बे शुष्क मौसम का आगाज हो सकता है, जिसके साथ ही दिन और रात दोनों के तापमान में उत्तर भारत के अधिकतर इलाको में बढ़ोतरी देखी जाएगी। साथ में ही उत्तर भारत के पहाड़ी इलाको, जम्मू एंड कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भी बारिश और बर्फ़बारी का एक लम्बा दौर शुरू होने वाला है, जो 4 -5 दिन तक जारी रह सकता है।  पहाड़ी राज्यों में 2500  मीटर या उससे ऊँचाई वाले इलाको में बर्फबारी का अनुमान है।    


मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार पंजाब के अमृतसर, बटाला, गुरदासपुर, जालंधर, मोगा, पटियाला, लुधियाना, भटिंडा मनसा, संगरूर, होशियारपुर और आसपास के क्षेत्रों में हल्की से मध्यम वर्षा की गतिविधिया देखने को मिलेंगी, जो पूरे दिन तक बनी रह सकती है, जबकि इसी दौरान कुछ एक दो जगहों पर तेज  बारिश और ओलावृष्टि की गतिविधिया भी देखी जा सकती है। दक्षिण पश्चिम पंजाब के कुछ हिस्सों, अबोहर और मलौट जैसी जगहों पर इस आगामी प्रणाली  से हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है।  एक-दो जगहों पर गरज के साथ तेज वर्षा और ओलावृष्टि की गतिविधियों को नकारा नहीं जा सकता। 12 और 13 मार्च को भी राज्य में बादलो की आवाजाही लगी रहेगी और हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की जा सकती है। 


हरियाणा के फरीदाबाद, गुड़गांव, मानेसर, पलवल, औरंगाबाद, रेवाड़ी, पटौदी, रोहतक, सोनीपत, पानीपत, करनाल, कुरुक्षेत्र, यमुनानगर, सिरसा, फतेहाबाद, हिसार, कैथल, चंडीगढ़ और आसपास के क्षेत्रों और दिल्ली-एनसीआर में बादल आ जायेंगे और कुछ  छिट्पुट जगहों पर हल्की बारिश व बूंदबांदी देखी जा सकती है।  कई इलाको में तेज बारिश भी देखी जा सकती है।  एक-दो जगहों पर ओलावृष्टि की गतिविधिया भी देखी जा सकती है। इसका असर उत्तर हरियाणा में राज्य के दक्षिण इलाको से ज्यादा होगा और सोनीपत, पानीपत, करनाल, कुरुक्षेत्र, यमुनानगर, कैथल और चंडीगढ़ में मध्यम से भारी बारिश होगी। 12-13 मार्च को भी हरियाणा और दिल्ली / एनसीआर में बादलो की आवाजाही लगी रहेगी और हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की जा सकती है। इसका असर हरियाणा  राज्य के उत्तरी इलाको में ही ज्यादा रहेगा, जबकि बाकि जगहों पर ये गतिवधियां कम देखी जाएँगी। 


मध्य और उत्तर राजस्थान के श्रीगंगानगर, सूरतगढ़,  हनुमानगढ़, अजमेर, जयपुर, अलवर, बीकानेर, सीकर, चूरू और उनके  आसपास के क्षेत्रों में हल्की से मध्यम वर्षा की गतिविधिया देखने को मिलेंगी, सुबह  तक बनी रह  सकती है। इसी दौरान कुछ एक दो जगहों पर तेज बारिश और की गतिविधिया भी देखी जा सकती है। पश्चिमी और दक्षिण राजस्थान के जैसलमेर, उदयपुर, माउंट आबू और जोधपुर में हल्की वर्षा होने की ही संभावना है। 


उत्तर प्रदेश में कुछ जगहों पर बारिश की गतिवधियां देखी जाएँगी। कई इलाको में मध्यम तेज बारिश देखी जा सकती है, जिसका असर 13 मार्च की रात तक बना रहेगा। कुछ जगहों पर ओलावृष्टि की गतिविधिया भी देखी जा सकती है। इसका असर राज्य के उत्तर और पश्चिमी के इलाको जैसे शामली, सहारनपुर, बिजनौर, मेरठ, बरेली, मुरादाबाद, रामपुर अलीगढ़,  बुलंदशहर और पहाड़ के तलहटी इलाको जैसे बहराइच, पीलीभीत, लखीमपुरखीरी, श्रावस्ती, गोरखपुर, महराजगंज में ज्यादा होगा। राज्य के मध्य और पूर्वी भागो जैसे राजधानी लखनऊ, कानपुर, हरदोई, उन्नाव, गोंडा, झाँसी, प्रयागराज, मिर्ज़ापुर और वाराणसी में हल्की-मध्यम बारिश देखी जा सकती है। यह गतिवधियां 12 मार्च को थोड़ी कम होकर 13 मार्च को शाम तक इसका असर फिर देखा जायेगा। बहराइच, श्रावस्ती, गोंडा बस्ती और गोरखपुर में इसका असर ज्यादा रहेगा।  


जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की ऊँची पहाड़ी इलाको में कुछ जगह हिमपात की गतिविधिया देेेेखी जाएंगी। 14  मार्च की रात तक चारो क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश व बर्फबारी के साथ कुछ जगहों भारी बारिश व बर्फ़बारी  के आसार हैं। इस अवधि के दौरान 2000 मीटर या उससे कम ऊंचाई वाले इलाको में इस अवधि के रुक-रुककर 14 मार्च तक जम्मू, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के मैदानी इलाको में मध्यम से भारी बारिश और  कश्मीर के श्रीनगर और बाकि मैदानी और पहाड़ी इलाको, धर्मशाला और शिमला, मसूरी, नैनीताल, पिथौरागढ़ जैसे प्रमुख जगहों पर मध्यम  से भारी बारिश और ओलावृष्टि होने की प्रबल संभावना है। इसका असर उत्तराखंड में ज्यादा रहने की उम्मीद है। देहरादून, हरिद्वार, हल्द्वानी और रुद्रपुर जैसे  मैदानी इलाको में 14 मार्च की सुबह तक रुक-रुक के कई बार मध्यम बारिश संभावना है। कुछ जगहों पर ओलावृष्टि भी हो सकती है। लद्दाख, स्पीति, मनाली, नारकंडा, केदारनाथ, बद्रीनाथ, औली, गुलमर्ग में इस दौरान हिमपात हो सकता है।