पूरे देश ने 1857 के क्रांति के महानायक कोतवाल धनसिंह गुर्जर को याद किया
विवेक जैन, मेरठ। 
1857 की क्रांति के महानायक कोतवाल धनसिंह गुर्जर की जन्म जयंती सम्पूर्ण देश में बड़े ही धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनायी गयी। मुख्य कार्यक्रम मेरठ के चौधरी चरण सिंह विश्वविधालय के प्रांगण में हुआ, जिसमें देशभर से राजनैतिक, शैक्षिक, सामाजिक, धार्मिक आदि क्षेत्रों से जुड़ी सैंकड़ो जानी-मानी हस्तियों ने शिरकत की। कार्यक्रम में सांसद राजेन्द्र अग्रवाल ने मुख्य अतिथि और विधायक अमित अग्रवाल ने विशिष्ट अतिथि के रूप में शिरकत की। कार्यक्रम में वक्ताओं ने 1857 की क्रांति के महानायक कोतवाल धनसिंह गुर्जर की महानता पर विस्तार से प्रकाश डाला और सभी से उनके जीवन से प्रेरणा लेने की बात कही। इस अवसर पर कोतवाल धनसिंह के जीवन पर आधारित देशभक्ति से ओत-प्रोत बहुत सुन्दर-सुन्दर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिसमें बच्चों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुति देकर सभी का मन मोह लिया। इस अवसर पर कोतवाल धनसिंह गुर्जर के देशहित में किये गये महान कार्यो को जन-जन तक पहुॅंचाने वाली संस्थाओ, शख्सियतों और कोतवाल धनसिंह के वंशजों को सम्मानित किया गया। 
कार्यक्रम की अध्यक्षता गुर्जर सभा के अध्यक्ष भंवर सिंह द्वारा की गयी। धनसिंह सिंह कोतवाल शोध संस्थान के चेयरमैन तस्वीर सिंह चपराना ने कार्यक्रम में आने वाले समस्त अतिथियों का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर दैनिक उगता भारत के संपादक डाक्टर राकेश कुमार आर्य, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सम्मानित वरिष्ठ पत्रकार विपुल जैन, प्रोफेसर डॉ प्रशांत कुमार, प्रोफेसर डॉ नवीन गुप्ता, प्रोफेसर डॉ विवेक त्यागी, डॉ अशोक कुमार, डॉ देवेश शर्मा, मेजर नारायण सिंह, कैप्टन सुभाष चंद्र, मनोज धामा, डॉ प्रशांत कुमार, डॉ राकेश कुमार आर्य, डॉ विनोद कुमार सानियाल, सुरेशपाल भाटी, अंकित यादव, प्रबंधक गौरव डबास, डॉ विपिन त्यागी, डॉ नीरज त्यागी, सिम्मी सिंह, अंशिका, मंजू ठाकुर, प्रधानाचार्य संजीव कुमार नागर, गुर्जर विकास समिति के जिला अध्यक्ष कमरपाल नागर, गुर्जर सभा के सचिव वीरेंद्र सिंह, मंजू नागर, नूतन प्रजापति, सुषमा, नीतू सिंह, सुमन, सीमा सिंह, ज्योति सहित सैंकड़ो शख्सियतों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर कैप्टन सुभाष चंद्र, चरण सिंह लिसाड़ी, धनतला लव कुश शास्त्री, गुलवीर पार्षद, सत्येंद्र धामा, एलकार नागर, मनोज धामा, गौतम प्रजापति, उज्जवल सहित हजारों की संख्या में लोग उपस्थित थे।