प्रधानमंत्री मातृ वंदना सप्ताह में 388 लाभार्थियों ने किया आवेदन

शि.वा.ब्यूरो, शामली। प्रधानमंत्री मातृ वंदना सप्ताह के तहत जनपद में जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है और लाभार्थियों के फार्म भरवाए जा रहे है। यह अभियान सात सितम्बर तक जारी रहेगा। प्रथम बार गर्भवती एवं धात्री महिलाओं को अधिक से अधिक लाभ पहुंचाने के लिए सात सितम्बर के बाद भी आशा कार्यकर्ताओं द्वारा घर-घर जागरूक अभियान जारी रहेगा। 

योजना के नोडल अधिकारी डॉ. अश्वनी शर्मा ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना सप्ताह के तहत एक सितम्बर से अभी तक (पांच सितम्बर) कुल 388 लाभार्थियों का पंजीकरण पोर्टल पर किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत शासन के आदेश पर जनपद में सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर लाभार्थियों को जागरूक कर रही हैं और पात्र लाभार्थियों के फार्म भर रही हैं। उन्होंने बताया कि पंजीकरण पोर्टल के माध्यम से जनपद की समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों (कैराना, कांधला, थाना भवन,कुडाना, शामली, ऊन) पर किया जा रहा है।  यह विशेष अभियान सात सितम्बर तक चलाया जायेगा। 
डा. अश्वनी शर्मा ने बताया कि योजना के तहत पहली बार गर्भवती (मां बनने) होने पर महिला को तीन किस्तों में पांच हजार रुपये दिए जाते हैं,  प्रसव चाहे सरकारी या निजी अस्पताल में कराया गया हो। उन्होंने बताया कि पंजीकरण के लिए माता-पिता का आधार कार्ड, मां की बैंक पासबुक की फोटोकॉपी जरूरी है। उन्होंने बताया कि माँ का बैंक अकाउंट ज्वाइंट नहीं होना चाहिये, निजी अकाउंट ही मान्य होगा। उन्होंने बताया कि यदि बच्चे का जन्म हो चुका है तो मां और बच्चे दोनों के टीकाकरण का प्रमाणिक पर्चा होना जरूरी है। 


उन्होंने बताया कि पंजीकरण कराने के साथ ही गर्भवती को प्रथम किस्त के रूप में 1000 रुपये दिए जाते हैं। उन्होंने बताया कि प्रसव पूर्व कम से कम एक जाँच होने पर दूसरी किस्त के रूप में (गर्भावस्था के छह माह बाद) 2000 रुपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर तीसरी किस्त के रूप में 2000 रुपये दिए जाते हैं। उन्होंने बताया कि यह सभी भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में ही किये जाते हैं।