कोरोना संक्रमण से बचने के लिए इम्युनिटी बढ़ाए




सुशीला बिस्वास, शिक्षा वाहनी समाचार पत्र।

 

 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए इम्युनिटी का मजबूत होना बेहद जरूरी है। कोरोना संक्रमण का दुष्प्रभाव ऐसे लोगों पर अधिक होता है, जिनका इम्युनिटी पावर कम होती है।

कोरोना के दुष्प्रभाव से बचने के लिए कुछ सावधानी

(1) नियमित रूप से हाथ साफ़ करे।

 (2)हाथ साफ करने के लिए   

निम्न प्राकृतिक और घरेलू उपचार  काम में ले सकते हैं

(A) प्राकृतिक पत्ती एलोवेरा जेल से

(B) एप्पल साइड विनेगर से,

(C) नींबू के ताजा रस से

(D) गेंदे के फूल से

(E) फिटकरी से

(F) हरे नीम की पत्ती की

(G) पेस्ट से

(3) घर से जब भी बाहर जाए सोशल डिस्टेंस बना कर रखे।

(4)मास्क लगाकर बाहर जाए

(5)बाहर जाए जब चश्मा लगाए व ग्लोब्स पहने

(6) कीटनाशक सेनिटाइजर तैयार करे

विधि 

रात को एक लीटर पानी मे 250 ग्राम हरे नीम की पत्ती धोकर भिगो दे। सुबह 10 मिनिट उबाल कर, आधा रहने पर छान कर 1 चम्मच फिटकरी,1 छोटा नींबू का रस निचोड़े। सेनिटाइजर तैयार हो गया। कांच की बोतल में डाल कर काम मे ले।

नाक की सुरक्षा के लिए

(a) नियमित रूप से नाक के दोनों नथुनों में सरसों के तेल/गाय के देशी घी/बादाम रोगन  की 2-2 बून्द रोज डाले।

(b) हल्के गर्म पानी मे थोड़ा सेंधा नमक व 1 चुटकी फिटकरी डाल कर जल नीति करे।

(C) साफ सूती कपड़े का मास्क या रुमाल  को 2-3 सिलवटे करके भी मास्क के रूप में इस्तेमाल करे।

आंखों की सुरक्षा के लिए

 (a) 3 चम्मच शहद,1 चम्मच सफेद प्याज का रस,1 चम्मच नींबू का रस,1 चम्मच अदरक का रस सभी को मिलाकर एक कांच की शीशी में भरकर रखे। इसकी 1-1 बून्द सुबह -शाम आंखों में डाले।

(B) गाय के गुत्र को छानकर एक एक बूंद भी आंखों में डाल सकते है।

निम्न लिखित काढ़ा बनाकर नियमित ले

 गिलोय 3 इंच का तना, तुलसी के 7 पत्ते, काली मिर्च 2 बीज, दाल चीनी आधा इंच का टुकड़ा, सोठ 1चुटकी या अदरक 3 ग्राम, पिपली आधा इंच का टुकड़ा, मुलेठी आधा इंच का टुकड़ा, एक लौंग, पुनर्नवा 2 ग्राम, सॉफ आधा चम्मच, छोटी इलाइची एक, एक बड़ी इलायची के 7 दाने, कच्ची हल्दी 3 ग्राम, दारू हल्दी 2 ग्राम, गुड़ स्वाद के अनुसार इन सब को 1 गिलास पानी मे उबाले, आधा रहने पर छान कर सुबह नाश्ते के 30 मिनिट बाद तथा रात्रि में खाना खाने के 30 मिनिट बाद रोज ले।

दूसरा काढ़ा

12 इंच का गिलोय का तना को कूट कर एक गिलाश पानी मे उबाले,आधा रहने पर स्वाद के अनुसार शहद मिलाकर सुबह खाली पेट ले।

उच्च रक्तचाप,मधुमेह, जोड़ो के दर्द आदि हो तो वे 2 तने का काढ़ा ले सकते है।

(11) रात्रि में सोने से पहले 1 इंच कच्ची हल्दी का टुकड़ा कूट कर,1 गिलाश दूध में उबाल कर सोते समय पिये।

गले का संक्रमण से बचाव (गरारा करे)

(a) गर्म पानी मे हल्दी डाल कर

(b) गर्म पानी मे नींबू का रस डाल कर

(C) गर्म पानी मे नमक डाल कर

(D) गर्म पानी मे 1 चुटकी फिटकरी डाल कर गरारा करे।

(E) तीस मिनिट गले के ठंडी पट्टी लगाकर रखे।

(13) रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए विटामिन सी और डी लेना आवश्यक है।

विटामिन सी प्रधान खाद्य पदार्थ

आंवला, संतरा, मौसमी, अनानास, अमरूद, टमाटर, पपीता, कच्चा आम, स्टोबेरी, रसभरी, मुन्नका, किसमिस, अंकुरित अन्न, विटामिन C बॉडी में स्टोर नही होता है, इसलिए रोज लेना चाहिए।

विटामिन डी प्रधान खाद्य पदार्थ

दूध और धूप इसका खजाना है। मशरूम, सोयाबीन का दूध, तफ़ू पनीर (सोयाबीन के दूध से बनता है) सूरज मुखी के बीज।

- धूप में पकने वाले काष्ठय फल (बादाम,अखरोट,तिल गोजा) ले।

- सुबह 8 से 10 बजे तक कि धूप में विटामिन डी प्रचुर मात्रा में मिलती है। सूर्य की तरफ पीठ करके धूप लेना चाहिए। शरीर  में विटामिन डी का पर्याप्त मात्रा में होना बेहद जरूरी है। इसके फलस्वरूप संक्रमण के प्रभाव से बचा जा सकता है। 

- विटामिन डी शरीर में मजबूत होने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, हड्डियां मजबूत होती है। शरीर पर होने वाले दुष्प्रभाव से बचाव होता है। (14) कोरोना वायरस विशेष रूप से स्वसन तंत्र पर वार करता है।

स्टीम ले

एक बर्तन में पानी उबालकर, उसमें 5- 6  बूंद नीलगिरी तेल की डालें। फेस को बर्तन के ऊपर रख कर,टॉवल से कवर करे।

इससे श्वसन तंत्र मजबूत होगा। ब्रीदिंग करे।

(a) 10 बार बांए नथुने को बंद कर, दांए से लंबी स्वास लेकर दाएं से निकाले 

(b)10 बार दांए को बंद कर बांए से लंबी स्वास लेकर बांए से निकाले 

(C)10 बार नाक के दोनो नथुनों से लंबी स्वास लेकर  निकाले 

(D) 10 बार मुंह से लंबी स्वास लेकर मुंह से निकाले

(16) नेचुरल व सीजनेबल फल सब्जियां अच्छे से साफ करके खाए ।

(17) स्वसन तंत्र मजबूत और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज और आसन प्राणायाम अवश्य करे। ताड़ासन, पृष्ठभूमि ताड़ासन, पवनमुक्तासन, उत्तानपादासन, भुजंगासन, मत्स्यासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, चक्रासन, सर्वांगासन, सूर्य नमस्कार, भस्त्रिका, कपालभाती, अनुलोम-विलोम, नाड़ी शोधन, उज्जाई, ॐ चेंटिंग करे।

कोरोना वायरस की दवा हमारे शरीर मे ही है। हमारे शरीर की इम्युनिटी कोरोना की दवाई है, इसलिये हमे अपना सारा ध्यान अपनी इम्युनिटी बढ़ाने पर देना चाहिए, तभी हम कोरोना को मात दे सकते है। शुद्ध भोजन करे,स्वास्थ्य रहे,प्रकृति के साथ रहे।

 

योगाचार्य व प्राकृतिक चिकित्सक व निदेशक- योग सेवा संस्थान, न्यू जानकी पूरी नई दिल्ली