हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर श्रीराम काॅलेज के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग मे राष्ट्रीय वेबिनार आयोजित


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। श्रीराम काॅलेज के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग ने हिन्दी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर ‘‘कोरोना संक्रमण काल मे हिन्दी पत्रकारिता की भूमिका’’ विषय पर एक सफल राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। जिसमें वरिष्ठ पत्रकार एवं प्रोफेसर डॉ0 अरूण कुमार भगत (अधिष्ठाता एवं अध्ययक्ष, मीडिया अध्ययन विभाग, महात्मा गाँधी विश्वविद्यालय मोतीहारी) ने मुख्य वक्ता के रूप में शिरकत की। 


 


पत्रकारिता के विषय में उन्होंने सभी छात्र छात्राओं से बहुत महत्वपूर्ण जानकारी साझा करी जिसमें उन्होंने बताया की सत्य को उजागर करना और उसे जनता तक पहुंचाना ही एक पत्रकार का प्रथम कर्तव्य है। उन्होंने बताया कि पत्रकारिता ही एक ऐसा क्षेत्र है, जो आज भी मूल्य सजीव है। उन्होंने पत्रकारिता के इतिहास के बारे में बताया कि कैसे पत्रकारिता ने संघर्ष कर के खुद को समाज में स्थापित किया तथा किस प्रकार समाज में व्याप्त अंधविश्वास और कुरीतियों पर प्रहार किये और अपने पत्रों के जरिए जनता में जागरूकता पैदा की।
सभी छात्र-छात्राओं के सवालों के जवाब अरुण जी ने बड़ी ही सरलता से दिए और पत्रकारिता का चित्रण बहुत ही प्रभावशाली तरीके से किया।



पत्रकारिता एवं जनसंचार के विभागाध्यक्ष रवि गौतम मे वेबिनार के अन्त में धन्यवाद ज्ञापित करते हुए सभी को हिंदी पत्रकारिता दिवस की शुभकामनाए देते हुए कहा कि हिंदी पत्रकारिता दिवस प्रतिवर्ष 30 मई को मनाया जाता है, क्योंकि इसी तिथि को पंडित युगुल किशोर शुक्ल ने 1826 ई. में प्रथम हिन्दी समाचार पत्र ‘उदन्त मार्तण्ड’ का प्रकाशन आरम्भ किया था। आज के समय में समाचार पत्र एक बहुत बड़ा व्यवसाय बन चुका है। मीडिया ने आज सारे विश्व में अपनी एक खास पहचान बना ली है। किसी भी देश की लोकतान्त्रिक व्यवस्था को मजबूत करने मे स्वतंत्र पत्रकारिता की भूमिका महत्वपूर्ण है। 
इस अवसर पर डॉ0 विनीत शर्मा, डॉ0 धर्मेंद्र, डॉ0 पूजा तोमर, डॉ0 विवेक त्यागी, शिवानी बर्मन, शिवानी गुप्ता, अक्षय शर्मा आदि उपस्थित रहे।