मस्ती से भरपूर कलैंडर girls ka संगीत (शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र के वर्ष 12, अंक संख्या-30, 21 फरवरी 2016 में प्रकाशित लेख का पुनः प्रकाशन)


भंडारकर की इस फिल्म में पांच खूबसूरत लड़कियां हैं जो भारत के अलग-अलग हिस्सों से हैं। एक युवती लाहौर की है। इन सभी का चयन एक हाॅट कैलेंडर में पोज देने के लिए किया गया है। खास बात ये कि कैलेंडर गर्ल्स के लिए चुनी गईं अभिनेत्रियां पहली बार किसी फिल्म में काम कर रही हैं। दिलचस्प ये है कि एक मशहूर उद्योगपति का किरदार सोहेल सेठ और फोटोग्राफर दोस्त का रोल रोहित राॅय ने निभाया है।
कैलेंडर गर्ल्स एक ग्लैमरस फिल्म है। जाहिर है म्यूजिक भी चटख ही होना चाहिए। यों भी जब सुपर माॅडल्स पर आधारित हो तो उम्मीदें बढ़ जाती हैं। पिछले कुछ समय से बालीवुड में धमाल मचा रहे अमाल मलिक और मीत ब्रदर्स ने इन कैलेंडर गर्ल्स के लिए जबर्दस्त म्यूजिक दिया है। वहीं गीतकार कुमार ने अपने गीतों से युवा श्रोताओं में एक बार फिर अपनी जगह बनाई है। म्यूजिक एलबम में कुछ पांच ट्रैक हैं।
एलबम की शुरूआत आउसम मोरा माहिया से हुई है। मीत ब्रदर्स के संगीत में रचे इस गीत में वो सब कुछ है जो आज के युवा श्रोता चाहते हैं। समंदर किनारे खूबसूरत लड़कियां। खुशबू की दिलकश गायिकी। सबसे बड़ी बात मूड बना देने वाला संगीत। और खास बात कुमार का लिखा युवा गीत पानी है वेव है, आ जा सारे देव है, पार्टी करने की ये डेस्टिनेशन अल्टीमेट है, ग्लैमर है बेबे हैं, आ जा सारे रेव हैं...। गीत को सुनकर सभी खिल उठेंगे।
अगला गीत ख्वाहिशें दो वर्जन में है। पहला राॅक जिसे अरिजीत ने गाया है तो दूसरा फिल्म वर्जन, जिसे संगीतकार अमाल मलिक ने खुद स्वर दिया है। अमाल ने हालांकि दोनों वर्जन बेहतरीन बनाए हैं मगर खुद के गए वर्जन में साफ्ट म्यूजिक के कारण उनकी गायिकी ताजा हवा के झोंके जैसी लगती हैं। यों अरिजीत ने भी बहुत अच्छा गाया है। बस म्यूजिक थोड़ा राॅक हावी हो गया है। आइए सुनें यह गीत-ख्वाबों में भी ये सोचा नहीं था...।
तीसरा ट्रैक वी विल राॅक द वर्ल्ड ये उन महत्वाकांक्षी युवतियां का प्रेरणा गीत है, जो अपने दम पर कुछ कर गुजरना चाहती हैं। गायिका खुशबू ग्रेवाल और नेहा कक्कड़ ने मीत ब्रदर्स के संगीत पर खूब धमाकेदार प्रस्तुति दी है। कुमार का लिखा यह गीत किसे नहीं पसंद आएगा-ख्वाब पूरे करने का टाइम अब तो आया है...।
अगले गीत शादी वाली नाइट में एकदम कैची धुन पर अदिति सिंह शर्मा ने खूब गाया है। अमाल के फ्यूजन म्यूजिक में उन्होंने जैसे सात रंग भर दिए हैं-ठुमका कर देता, क्रेजी ठुमके में आती तेजी...।
फिल्म कैलेंडर गर्ल्स के गीतों में एक खास तरह की मस्ती है। कुमार के नई पीढ़ी को ध्यान में रखकर गीत लिखे हैं तो मीत और अमाल ने दिल को धड़काता संगीत रचा है। ज्यादातर गीतों में एक ऐसी मिठास है, जो श्रोताओं को सराबोर करता है। गीत ख्वाहिशें सुनकर आप एलबम खरीदें बिना नहीं रह पाएंगे। एक बार जरूर सुनें।