उप्र में अव्वल रहा मुजफ्फरनगर का महिला अस्पताल, कायाकल्प अवार्ड के तहत मिला 50 लाख का इनाम

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। आमतौर पर सरकारी अस्पताल को लेकर अच्छी तस्वीर लोगों के जेहन में नहीं आती है, लेकिन यहां ऐसा नहीं है । जनपद के महिला अस्पताल की तस्वीर इसके बिल्कुल पलट है । सरकार के कायाकल्प अवार्ड की सूची में जनपद के महिला अस्पताल का नाम केवल शामिल ही नहीं हुआ बल्कि यह उप्र का नंबर वन अस्पताल बन गया है। रैंकिंग में इसे 100 में से 96.3 अंक प्राप्त हुए हैं। सरकार ने इसे  50 लाख रूपये का इनाम भी दिया है । अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (सीएमएस) इसका श्रेय अस्पताल के चिकित्सकों और कर्मचारियों को देती हैं। उनका कहना है कि सभी की मेहनत के कारण यह संभव हो पाया है।

सीएमएस डॉ. अमृता रानी भांभे का कहना है कि वर्ष 2019-20 में सरकारी महिला और पुरुष अस्पतालों की सेवा,स्वच्छता और व्यवस्था को लेकर वार्षिक निरीक्षण के आधार पर राज्यवार अस्पतालों को इनाम दिए जाते हैं, जिसमें उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर का नाम पहले स्थान पर रहा । उन्होंने कहा कि इस अवार्ड के लिए यहां के चिकित्सक एवं कर्मचारी बधाई के पात्र हैं, जिन्होंने अपनी मेहनत और लगन  से जिले का नाम रोशन किया।

बता दें कि सीएमएस के अथक प्रयासों ने महिला अस्पताल को निजी अस्पताल की तर्ज पर सेवा प्रदाता बनाया और यही वजह है कि आज हर तबके का मरीज यहां इलाज कराने आता है। जिले में तैनात रहीं मुख्य विकास अधिकारी तक ने अपना प्रसव  यहीं कराया था  । अस्पताल में मिलने वाली सुविधाएं, मरीजों की देखरेख, दवा की गुणवत्ता और व्यवस्था की हर तरफ तारीफ की जा रही है।

बता दें कि कायाकल्प अवार्ड की सूची में 100 में 96.3 अंक लेकर मुजफ्फरनगर का जिला महिला अस्पताल प्रथम, 94.3 अंक लेकर ललितपुर का जिला महिला अस्पताल दूसरे नम्बर पर और 94 अंक लेकर प्रयागराज का मोतीलाल नेहरू अस्पताल तीसरे नम्बर पर रहा है।